हड्डियों के कैंसर के इलाज का खर्च कितना है और इसका इलाज कहां कराएं?- GoMedii


कैंसर एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है और इस बात से सभी वाकिफ हैं। कैंसर होने पर आपके शरीर में सेल्स का विकास काफी तेज़ी से होने लगता है। कैंसर से पीड़ित व्यक्ति के शरीर में कैंसर की कोशिकाओं के विकसित होने से उसका शरीर बहुत कमजोर हो जाता है और कुछ समय के बाद उस व्यक्ति का स्वास्थ्य काफी खराब होने लगता है। यहां हम बात  कर रहें हैं हड्डियों के कैंसर के बारे में आज के इस दौर में इसके बहुत से मामले देखने को मिल रहें हैं।

 

आपको बता दें कि हड्डियों के कैंसर की शुरुआत मानव शरीर के बोन सेल्स में होती है। हड्डी का कैंसर मुख्य रूप से कंधे और पैर की हड्डियों में शुरू होता है, लेकिन अच्छी खबर यह है कि यह कैंसर वयस्कों में कम ही देखा जाता है। हड्डी का कैंसर तब खतरनाक साबित होता है जब यह काफी हद तक बढ़ जाता है और शरीर के अन्य हिस्सों में भी फैल जाता है। इसलिए आपको इसका इलाज समय पर करवाना चाहिए।

 

 

 

कैंसर रोग-प्रतिरोधक क्षमता (Immunity System) को कमजोर करके उसे कमजोर बना देती हैं। यह बात हड्डी के कैंसर पर भी लागू होती है यदि इसका इलाज समय पर नहीं किया जाए तो उस व्यक्ति की जान जा सकती है। भारत में हड्डी के कैंसर के इलाज की लागत लगभग 4,00,000 रुपये से 10,00,000 रुपये तक है। यदि आप हड्डियों के कैंसर का इलाज करवाना चाहते हैं तो हम आपको कम कीमत पर इसका इलाज प्राप्त कराएंगे।

 

 

हड्डीयों के कैंसर के इलाज के लिए दिल्ली के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Best hospitals in Delhi For Bone Cancer Treatment in Hindi)

 

आपको बता दें कि दिल्ली में हड्डीयों के कैंसर का इलाज आसानी से उपलब्ध है इसके लिए आप हमें चुन सकते हैं हम आपको सबसे सस्ती कीमत पर इसका इलाज उपलब्ध कराने की पूरी कोशिश करेंगे। आप इनमें से किसी भी अस्पताल में इलाज करवा सकते हैं:

 

 

 

 

 

यदि आप इस अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

हड्डीयों के कैंसर के इलाज के लिए गुरुग्राम के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Best hospitals in Gurugram For Bone Cancer Treatment in Hindi)

 

  • नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, गुरुग्राम (Narayana Superspeciality Hospital, Gurugram)
  Woman Obesity: Why do girls gain weight only after marriage, know the reason here

 

 

 

 

यदि आप इस अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

हड्डीयों के कैंसर के इलाज के लिए हैदराबाद के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Best hospitals in Hyderabad For Bone Cancer Treatment in Hindi)

 

  • यशोदा सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, सोमाजी गुडा, हैदराबाद (Yashoda Super Speciality Hospital, Somaji Guda, Hyderabad)

 

 

  • कॉन्टिनेंटल हॉस्पिटल्स लिमिटेड, हैदराबाद (Continental Hospitals Limited, Hyderabad)

 

 

यदि आप इस अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

कोलकाता में हड्डीयों के कैंसर के इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल? (Best hospitals in Kolkata For Bone Cancer Treatment in Hindi)

 

यदि आप कोलकाता में हड्डियों के कैंसर के इलाज के लिए हॉस्पिटल की तलाश में हैं तो आप हम से संपर्क कर सकते हैं:

 

  • अमरी अस्पताल साल्ट लेक, साल्ट लेक, कोलकाता (Amri Hospital Salt Lake, Salt Lake, Kolkata)

 

  • अपोलो ग्लेनीगल्स अस्पताल, कडापारा, कोलकाता (Apollo Gleneagles Hospital, Kadapara, Kolkata)

 

 

 

यदि आप इस अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

हड्डी के कैंसर के प्रकार क्या हैं? (Types of Bone Cancer-in Hindi)

 

हड्डी के कैंसर मुख्य रूप से 5 प्रकार के होते हैं:

 

ओस्टियोसारकोमा : यह एक सामान्य प्रकार का हड्डी का कैंसर है, जो 10 से 30 वर्ष की आयु के लोगों में देखा जाता है। हालांकि ओस्टियोसारकोमा विकसित होने की संभावना बहुत कम है, फिर भी लोगों को आवश्यक सावधानी बरतनी चाहिए। इसके अलावा महिलाओं की तुलना में पुरुषों को यह कैंसर होने की संभावना अधिक होती है, जिसका इलाज कीमोथेरेपी या किसी अन्य सर्जरी से किया जा सकता है।

 

चोंड्रोसारकोमा : किसी व्यक्ति की जांघ, कूल्हे और कंधे की हड्डियों में होने वाले कैंसर को चोंड्रोसारकोमा कहा जाता है। दरअसल 20 वर्ष से कम उम्र के लोगों में चोंड्रोसारकोमा कैंसर होने की संभावना अधिक होती है। यह कैंसर उम्र के साथ बढ़ता है और इसके कुछ मामलों में यह पूरी हड्डी को नुकसान पहुंचा सकता है।

  हिप रिप्लेसमेंट सर्जरी के बाद सावधानियां - GoMedii

 

इविंग ट्यूमर: इविंग ट्यूमर शरीर की किसी भी हड्डी में हो सकता है। यह हड्डी का कैंसर मुख्य रूप से युवाओं में देखा जाता है लेकिन ये किसी भी उम्र में हो सकता है।

 

फाइब्रोसारकोमा और घातक रेशेदार हिस्टियोसाइटोमा : किसी व्यक्ति के जबड़े, पैर और कंधे की हड्डियों में पाए जाने वाले कैंसर को फाइब्रोसारकोमा और घातक रेशेदार हिस्टियोकोमा कहा जाता है।

 

जाइंट सेल ट्यूमर : इस प्रकार का बोन कैंसर कैंसरयुक्त या गैर-कैंसरयुक्त हो सकता है। जाइंट सेल ट्यूमर बच्चों और युवाओं में सबसे अधिक होने की संभावना है। हालांकि इस ट्यूमर को समय रहते दूर किया जा सकता है, लेकिन अगर यह लंबे समय तक बना रहे तो यह गंभीर रूप ले सकता है।

 

 

हड्डीयों के कैंसर के लक्षण क्या हैं? (How to diagnose Bone Cancer in Hindi)

 

हड्डी के कैंसर के विभिन्न लक्षण हैं।

 

  • हड्डी में दर्द

 

  • तेजी से वजन घटना

 

 

  • प्रभावित क्षेत्र में कोमलता और सूजन

 

  • हड्डी की कमजोरी, जिससे फ्रैक्चर हो जाता है।

 

 

हड्डीयों के कैंसर का निदान कैसे किया जाता है? (Bone Cancer Treatment in Hindi)

 

  • फिजिकल टेस्ट

 

  • ब्लड टेस्ट

 

  • इमेजिंग परीक्षण: एक्स-रे, एमआरआई स्कैन, सीटी स्कैन, पीईटी स्कैन जैसे इमेजिंग परीक्षण शामिल हैं।

 

  • बोन स्कैन: बोन स्कैन हड्डियों की स्थिति की जांच करने में मदद करता है।

 

  • बायोप्सी: इसमें डॉक्टर ऊतक वृद्धि का एक छोटा सा हिस्सा हटा देता है और कैंसर कोशिकाओं की उपस्थिति की जांच करने और उनके प्रकार की पहचान करने के लिए एक प्रयोगशाला में भेजाता है।

 

 

हड्डीयों के कैंसर का इलाज (Bone Cancer Treatment in Hindi)

 

सर्जरी थेरेपी का उद्देश्य कैंसरयुक्त ट्यूमर और उसके आसपास की हड्डी के कुछ ऊतकों को हटाना है। क्योंकि कुछ कैंसर कोशिकाएं जीवित रहती हैं, तो वे बढ़ सकती हैं और फिर से फैल सकती हैं। लिम्ब-स्पेरिंग सर्जरी, जिसे लिम्ब साल्वेज सर्जरी के रूप में भी जाना जाता है, सर्जरी को संदर्भित करता है जिसमें, बिना हड्डी को हटाए, सर्जन शरीर के दूसरे हिस्से से कुछ हड्डी लेता है या प्रभावित हड्डी को बदलने के लिए कृत्रिम हड्डी का उपयोग कर सकता है। हालांकि, कुछ मामलों में अंग को पूरी तरह से निकालना आवश्यक हो सकता है।

  What the Finance Minister can do to address India’s mental health crisis

 

 

  • रेडियोथेरेपी

रेडियोथेरेपी आमतौर पर हड्डी के कैंसर और अन्य प्रकार के कैंसर के इलाज के लिए प्रयोग की जाती है। इसके साथ ही कई तरह के कैंसर के इलाज में भी आमतौर पर रेडियोथेरेपी का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए उच्च-ऊर्जा ‘एक्स-रे’ कणों  का उपयोग किया जाता है। रेडियोग्राफी ट्यूमर कोशिकाओं के अंदर डीएनए को नुकसान पहुंचाती है, उन्हें फैलने से रोकती है।

ट्यूमर को पूरी तरह से नष्ट करके, कैंसर में दर्द से राहत देकर, ट्यूमर को सिकोड़कर रोगी का इलाज किया जाता है ताकि सर्जरी के बाद किसी भी शेष कैंसर कोशिकाओं को हटाकर इसे सर्जरी द्वारा आसानी से हटाया जा सके।

 

 

  • कीमोथेरेपी 

कीमोथेरेपी में उन दवाओं का उपयोग शामिल है जो कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए मौखिक रूप से, या एक नस (अंतःशिरा) के माध्यम से दी जा सकती हैं। चोंड्रोसारकोमा के मामलों में कीमोथेरेपी बहुत प्रभावी नहीं है, लेकिन इविंग सरकोमा और ओस्टियोसारकोमा के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।

 

यदि आप कम खर्च में हड्डीयों के कैंसर के इलाज की तलाश कर रहे हैं या इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें [email protected] पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


 

 



Source link

Leave a Comment