रोजाना पेट में गैस होने को न करें नजरअंदाज हो सकती हैं अनेक बीमारियां


विशेषज्ञों का कहना है कि अनेक लोगों को पेट में गैस की समस्या बढ़ रही है। यह समस्या अधिकतर लोगों को प्रतिदिन की जिंदगी में परेशानी दे रही है। चिकित्सकों का कहना है कि बढ़ी हुई गैस से लोगों को पेट की दर्द, उलटी, और पेट में सूजन जैसी समस्याएं हो सकती हैं। विभागीय डॉक्टर अनुज शर्मा ने बताया कि गैस की समस्या के मुख्य कारण में भोजन में अधिक तेल और मसालों का उपयोग करना, समय पर भोजन न करना, और अव्यवस्थित जीवनशैली को दिखाया जा रहा है।

 

डॉक्टर शर्मा ने इस समस्या को नियंत्रित करने के लिए समय पर भोजन करने, प्राकृतिक तरीके से तैयार किए गए खाद्य पदार्थों का सेवन करने, और ध्यानपूर्वक व्यायाम करने की सलाह दी। वे लोगों से भी सलाह दे रहे हैं कि अधिकतर पानी पीने, समय पर खाना खाने, और अपने खाने की विशेषज्ञ सलाह लेने में ध्यान दें। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

 

 

 

पेट में गैस होने को नजरअंदाज करने पर अनेक बीमारियां हो सकती हैं।

 

 

पेट में गैस होना कोई सामान्य समस्या नहीं है, लेकिन अगर यह समस्या नियमित रूप से हो रही है तो इसे नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। विशेषज्ञों के मुताबिक, यदि व्यक्ति रोजाना पेट में गैस की समस्या से जूझ रहा है, तो इसे किसी गंभीर समस्या के लक्षण के रूप में नहीं लेना चाहिए। पेट में गैस की बढ़ती समस्या के लिए कुछ प्रमुख कारण शामिल हैं, जैसे कि खाने की अव्यवस्थितता, तेजी से भोजन करना, अधिक मसालेदार खाना खाना, खाने के बाद लेटना, तनाव और अत्यधिक चिंता, आदि। लेकिन, यदि यह समस्या लंबे समय तक बनी रहती है, तो इसे गंभीरता से लेना चाहिए क्योंकि इसके पीछे अन्य बीमारियां भी हो सकती हैं।

  Newly-developed censor can detect early signs of cancer, distinguish type of tumours: Study - ET HealthWorld

 

पेट में गैस की समस्या को नजरअंदाज करने से आमतौर पर जीर्ण रोग जैसे की एसिडिटी, गैस्ट्राइटिस, या अल्सर जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। इसके अलावा, आराम न करने पर इस समस्या को दर्दनाक बनाने वाली बाधाएं भी हो सकती हैं। इसलिए, यदि किसी व्यक्ति को रोजाना पेट में गैस की समस्या है, तो उन्हें इसे गंभीरता से लेना चाहिए और एक विशेषज्ञ चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए। विशेषज्ञ चिकित्सक उचित जांच और उपचार के लिए निर्देशन प्रदान करेंगे जिससे समस्या का समाधान संभव हो सके।

 

 

 

पेट में रोजाना गैस होने पर कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं ?

 

 

इन बीमारियों का सामान्यत: एक नई गैस की समस्या के रूप में शुरू हो सकता है, लेकिन अगर यह समस्या नियमित रूप से होती है, तो इसे नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए और चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए। पेट में रोजाना गैस होने पर निम्नलिखित बीमारियां हो सकती हैं:

 

 

  • एसिडिटी : अत्यधिक गैस की समस्या अक्सर एसिडिटी को बढ़ा सकती है। यहाँ तक कि गैस की बढ़ती मात्रा से पेट में एसिडिटी का संतुलन भंग हो सकता है।

 

  • गैस्ट्राइटिस : यह एक पेट की सूजन का रूप होता है जो पेट की दीवार को प्रभावित कर सकता है और गैस के उत्पादन में वृद्धि कर सकता है।

 

  • अल्सर: पेट के अल्सर गैस की बढ़ती मात्रा का एक कारण हो सकते हैं, जो आमतौर पर पेट की दीवार के अंदर होते हैं।

 

  • आंतों में संक्रमण : अधिक गैस के कारण पेट में अव्यवस्था हो सकती है, जो आंतों में संक्रमण के लिए एक आदर्श माहौल प्रदान कर सकती है।
  UF players noticing nutrition improvements under Kelsee Gomes

 

  • आंतों की विकार : जैसे कि आंतों में गैस के बढ़ते प्रमाण विभिन्न आंतिक विकारों के संकेत हो सकते हैं, जैसे कि आंतों में सूजन, आंतों की प्रतिरोधकता की कमी, आदि।

 

  • पेट की आफत : जैसे कि पेट में गैस की समस्या अगर न ठीक की जाए तो यह पेट की आफत की ओर बढ़ सकती है, जिसमें उल्टियां, पेट दर्द, पेट की सूजन, आदि शामिल हो सकते हैं।

 

 

इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें या आप हमसे  व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें [email protected] पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी। हम आपका सबसे अच्छे हॉस्पिटल में इलाज कराएंगे।

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


 

 



Source link

Leave a Comment