उत्तर प्रदेश में ओवरी सिस्ट के इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल, जाने इसका इलाज क्या है?


हम सभी जानते हैं कि अंडाशय महिलाओं के प्रजनन तंत्र का हिस्सा होते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ओवेरियन सिस्ट होता क्या है? दरअसल, यह एक तरह के तरल पदार्थ से भरे छोटे-छोटे छाले या गांठ होती हैं, जो अंडाशय के अंदर बनने लगते हैं।

डॉक्टर का कहना है कि अंडाशय की इन गांठों को ओवेरियन सिस्ट कहते हैं। ज्यादातर मामलों में जब तक यह गांठ बड़ी नहीं हो जाती, तब तक न तो इस गांठ के कोई लक्षण नजर आते हैं और न ही इससे दर्द जैसा दर्द होता है। ये ओवेरियन सिस्ट कुछ दिनों से लेकर कुछ महीनों तक बनी रहती है।

फिर यह अपने आप बढ़ने लगती है। इसके मुख्यतः तीन प्रकार होते हैं, फॉलिकल सिस्ट, कॉर्पस ल्यूटियम सिस्ट, पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम। यदि किसी महिला को सिस्ट की समस्या है और आप इसके इलाज के लिए उत्तर प्रदेश के बेस्ट हॉस्पिटल खोज रहें हैं तो आज हम आपको कुछ बेस्ट हॉस्पिटल्स के नाम बताएंगे।

 

 

 

 

ओवरी सिस्ट के इलाज के लिए ग्रेटर नोएडा के बेस्ट हॉस्पिटल 

 

  • शारदा हॉस्पिटल

 

  • यथार्थ हॉस्पिटल

 

  • बकसन हॉस्पिटल

 

  • जेआर हॉस्पिटल

 

  • प्रकाश हॉस्पिटल

 

  • दिव्य हॉस्पिटल

 

  • शांति हॉस्पिटल

 

  • एस्क्लेपियस हॉस्पिटल (कॉस्मेटिक सर्जरी)

 

ओवरी सिस्ट के इलाज के लिए हापुड़ के बेस्ट हॉस्पिटल 

 

  • शारदा हॉस्पिटल

 

  • जीएस हॉस्पिटल

 

  • बकसन हॉस्पिटल

 

  • जेआर हॉस्पिटल

 

  • प्रकाश हॉस्पिटल

 

ओवरी सिस्ट के इलाज के लिए मेरठ के बेस्ट हॉस्पिटल 

 

  • सुभारती हॉस्पिटल

 

  • आनंद हॉस्पिटल

 

ओवरी सिस्ट  के इलाज के लिए दिल्ली के बेस्ट हॉस्पिटल 

 

  • सीके बिड़ला हॉस्पिटल

 

  • यशोदा हॉस्पिटल

 

  • बीएलके-मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल

 

  • इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल

 

  • फोर्टिस हार्ट अस्पताल

 

  • मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल

 

यदि आप इनमे से कोई हॉस्पिटल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311)  पर संपर्क कर सकते हैं।

  Garlic Health Benefits in Winter: 5 Reasons to Consume This Magical Herb in Cold Season

 

 

ओवरी सिस्ट का इलाज क्या है? (What is the treatment for ovary cyst in Hindi)

 

कुछ प्रकार के ओवरी सिस्ट के सिस्ट बिना किसी उपचार के अपने आप ही सिकुड़ जाते हैं और गायब हो जाते हैं। हालांकि, दूसरों को उपचार की आवश्यकता होती है। अंडाशय में गांठ का कई तरह से इलाज किया जाता है। आमतौर पर, अंडाशय में पुटी का उपचार इसके कारण, प्रकार और गंभीरता पर निर्भर करता है। ओवेरियन सिस्ट का इलाज हार्मोनल दवाओं और सर्जरी से किया जाता है।

ओवरी सिस्ट के आकार, प्रकार और गंभीरता के आधार पर, डॉक्टर मरीज को हार्मोनल दवाएं जैसे गर्भनिरोधक गोलियां खाने की सलाह दे सकता है। जब सिस्ट का आकार बड़ा हो जाता है या गंभीर हो जाता है, तो डॉक्टर सर्जरी की सलाह देते हैं। ओवेरियन सिस्ट की सर्जरी दो तरह से की जाती है, एक है लैप्रोस्कोपिक सर्जरी और दूसरी है लैपरोटॉमी सर्जरी। ओवेरियन सिस्ट के इलाज के लिए डॉक्टर कौन सी सर्जरी का उपयोग करते हैं, यह ओवेरियन सिस्ट के आकार, प्रकार और रोगी के समग्र स्वास्थ्य पर निर्भर करता है।

 

 

ओवेरियन सिस्ट के लक्षण (Ovarian cyst symptoms in Hindi)

 

 

  • पेट में सूजन या सूजन महसूस होना

 

  • मल त्याग के दौरान दर्द

 

  • पीरियड्स के दौरान या बाद में पैल्विक दर्द

 

  • यौन संपर्क के दौरान गंभीर दर्द

 

  • जांघों या पैरों में दर्द

 

 

  • उल्टी आना

 

कुछ गंभीर लक्षण जिसके बाद आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए

 

  • गंभीर पैल्विक दर्द

 

  • बुखार होना

 

  • चक्कर आना या बेहोशी

 

  • तेजी से साँस लेने

 

 

ओवेरियन सिस्ट के कारण (Causes of ovarian cyst in Hindi)

 

  Weight Loss Diet - 3 Tips To Choose Your Weight Loss Diet Plan

अगर आप ओवेरियन सिस्ट से पीड़ित हैं तो आपके मन में यह सवाल उठ सकता है कि ओवेरियन सिस्ट क्यों होता है। तो आइए आज हम आपको इस ब्लॉग के माध्यम से बताते हैं कि ओवरी मी सिस्ट क्यों बनता है। वैसे तो ओवेरियन सिस्ट होने के कई कारण हो सकते हैं, लेकिन इसके मुख्य कारणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

 

  • हार्मोनल समस्याएं: ओवेरियन सिस्ट हार्मोनल समस्याओं के कारण हो सकता है, आमतौर पर उपचार की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। वे आपको कुछ निर्देश दे सकते हैं।

 

  • गर्भावस्था: ओवेरियन सिस्ट गर्भावस्था को सहारा देने के लिए जल्दी विकसित होता है जब तक कि प्लेसेंटा नहीं बन जाता। लेकिन कई बार प्रेग्नेंसी के बाद भी ओवरी पर सिस्ट रह जाता है।

 

  • पैल्विक इन्फेक्शन: जब कोई गंभीर संक्रमण फैलोपियन ट्यूब में फैल जाता है तो यह ओवेरियन सिस्ट के रूप में विकसित हो सकता हैं, और यह अंडाशय में सिस्ट बनने का कारण बन सकता है।

 

  • एंडोमेट्रियोसिस: एंडोमेट्रियोसिस वाली महिलाओं में विकसित होने वाले ओवेरियन सिस्ट को एंडोमेट्रियोमा कहा जाता है। एंडोमेट्रियोसिस ऊतक सिस्ट बनाने के लिए अंडाशय से जुड़ सकता है।

 

 

ओवेरियन सिस्ट का इलाज के विकल्प क्या हैं? (What are the treatment options for ovarian cysts in Hindi)

 

लैपरोटॉमी सर्जरी

जब किसी महिला का ओवरी सिस्ट बहुत बड़ा होता है तो डॉक्टर सर्जरी की मदद से नाभि के पास एक बड़ा चीरा लगाकर इसे हटाया जा सकता है। आपको बता दें की यदि किसी प्रकार के सिस्ट के कारण शरीर में कैंसर फैलने का खतरा है तो लैपरोटॉमी उस जोखिम को दूर करने में मददगार साबित हो सकता है।

 

लेप्रोस्कोपिक सर्जरी

यदि आपकी गांठ बहुत छोटी है, तो डॉक्टर नाभि के पास एक छोटा चीरा लगाकर इसे हटाने का प्रयास कर सकते हैं।

  Study: Largest nutritionists’ group captured by food, pharma and agribusiness companies - U.S. Right to Know

 

 

ओवेरियन सिस्ट का निदान कैसे किया जा सकता है? (How Ovarian Cysts Are Diagnosed in Hindi)

 

 

  • सीटी स्कैन: आपके शरीर के आंतरिक अंगों के क्रॉस-सेक्शनल चित्र बनाने के लिए इमेजिंग डिवाइस का उपयोग किया जाता है।

 

  • एमआरआई: यह एक ऐसा टेस्ट है जो मैग्नेटिक फील्ड का उपयोग होता है। ताकि शरीर के आंतरिक अंगों की तस्वीर गहराई से देखी जा सके।

 

  • अल्ट्रासाउंड: यह भी एक इमेजिंग डिवाइस है। जिसके जरिए अंडाशय की तस्वीरें ली जाती है।

 

आपका डॉक्टर आपकी बीमारी के निदान के लिए कुछ अतिरिक्त टेस्ट भी कर सकता है जैसे गर्भावस्था परीक्षण (pregnancy test,), हार्मोन स्तर परीक्षण (hormone level test),ओवेरियन के कैंसर का पता लगाने के लिए टेस्ट।

 

 

यदि आप ओवेरियन सिस्ट की बीमारी है और आप इससे संबंधित कोई भी सवाल पूछन चाहते हैं तो  यहाँ क्लिक करें या आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311)  पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें [email protected] पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


 

 



Source link

Leave a Comment