क्या हर कमर दर्द है स्लिप डिस्क? जानिए इसकी वजह और इलाज – Best Hindi Health Tips (हेल्थ टिप्स), Healthcare Blog – News


व्यक्ति के रीढ़ की हड्डियों में मौजूद हड्डियों को सहारा देने के लिए छोटे -छोटे गद्देदार डिस्क होती हैं यह रीढ़ की हड्डियों को लचीला रखती हैं परन्तु अगर यह डिस्क क्षतिग्रस्त हो जाती हैं तो यह सूज या फिर टूट कर खुल सकती हैं जिसे स्लिप डिस्क कहते हैं। डिस्क के क्षतिग्रस्त होने का यह मतलब होता हैं की वह अपनी जगह से आगे बढ़ गयी हैं ये फिर फूल गयी हैं। स्लिप डिस्क को स्पाइनल डिस्क हर्नियेशन के नाम से भी जाना जाता हैं।

 

 

और पढ़े: (दिल्ली में सबसे अच्छे स्लिप डिस्क अस्पताल)

 

 

 

 

मुख्य रूप से स्लिप डिस्क के तीन प्रकार के होते हैं-

 

 

सर्वाइकल स्लिप डिस्क(cervical slip disc): सर्वाइकल का दर्द सामान्य होता हैं परन्तु यह दर्द अगर अधिक बढ़ता हैं तो सर्वाइकल स्लिप डिस्क जैसी समस्या हो सकती हैं इसका दर्द अधिकतर गर्दन में तथा दोनों कंधो में , सिर के पिछले भाग में होता हैं।

 

 

लम्बर स्लिप डिस्क (lumbar slip disc): लम्बर स्लिप डिस्क तब होता हैं जब दर्द रीढ़ की हड्डी के निचले भाग में हो और इसकी वजह से पीठ के निचले हिस्से में तथा जांघ और पैर तथा पैरो की उंगलियों में भी अधिक दर्द होना शुरू हो जाए।

 

 

थोरेसिक डिस्क स्लिप(thoracic disc slip): थौरेसिक स्लिप डिस्क तब होता हैं जब रीढ़ की हड्डी के बीच के हिस्से में आस – पास दबाव पड़ता हैं जिसकी वजह से गर्दन तथा रीढ़ की हड्डी से लेकर पैरो के पंजो तक अधिक दर्द होने लगे।

 

 

 

स्लिप डिस्क के लक्षण क्या होते हैं ?

 

 

स्लिप डिस्क होने के लक्षण हर व्यक्ति को सामान्य नहीं होते ,सभी को इस बीमारी का अनुभव अलग- अलग होता हैं। स्लिप डिस्क तंत्रिकाओं और मांसपेशियों पर और इनके आस -पास आसामन्य रूप से दबाव डालते हैं। अगर किसी मनुष्य को इस प्रकार के लक्षण अपने शरीर में महसूस हो तो तुरंत ही डॉक्टर से जाँच कराये। लक्षण कुछ इस प्रकार हैं।

  How to Make Minoxidil (Rogaine) More Effective for Regrowing Your Hair

 

 

  • मांसपेशियों के कमजोर होने से भी यह बीमारी हो सकती हैं।
  • रात में अधिक दर्द बढ़ जाना तथा कुछ गतिविधियों में ज्यादा दर्द होना।
  • प्रभावित क्षेत्र में झुनझुनी ,दर्द या फिर जलन का अधिक होना।
  • खड़े होने या फिर बैठने के दौरान दर्द का बढ़ना।
  • शरीर के एक तरफ या फिर कभी -कभी दोनों तरफ दर्द होना।
  • गर्दन तथा कमर में अधिक दर्द होना।

 

 

अधिकतर यह दर्द सभी मनुष्य को सामान्य लग सकता हैं क्योंकि कामकाज की भाग-दौड़ में लोगों का अपनी सेहत पर ध्यान कम जाता हैं। अगर किसी भी व्यक्ति को बताये गए लक्षणों जैसा महसूस हो तो इसे सामान्य दर्द समझकर नज़रअंदाज़ न करे बल्कि डॉक्टर से जाँच कराये और इसका इलाज सही समय पर कराएं।

 

 

 

स्लिप डिस्क होने के कारण क्या हो सकते हैं ?

 

 

स्लिप डिस्क होने के कई कारण हो सकते हैं यह एक रीढ़ की हड्डी से जुड़ा रोग हैं तो रीढ़ की हड्डी या उसके आस – पास कोई भी नुकसान होने से यह बीमारी हो सकती हैं।हमारे शरीर में रीढ़ की हड्डी में मौजूद डिस्क अलग-अलग गतिविधियों में लगने वाले झटकों से बचाती हैं जिसकी वजह से स्लिप डिस्क कमजोर हो जाती हैं। स्लिप डिस्क होने के कारण कुछ इस प्रकार हैं। यदि अगर कोई भी व्यक्ति किसी कारणवश पीठ के बल गिरता हैं या फिर किसी हादसे में रीढ़ की हड्डी या फिर उसके आस – पास चोट लगती हैं तो उसके कारण भी यह बीमारी होती हैं।

 

 

  • किसी भारी वस्तु को गलत ढंग से उठाने से भी यह परेशानी हो सकती हैं।

 

  • शरीर का अधिक भारी होना मनुष्य के निचले के हिस्से पर दबाव डालता हैं जिसकी वजह से स्लिप डिस्क कमजोर हो जाती हैं।
  body evangelical review

 

  • व्यक्ति की उम्र जितनी बढ़ती जाती हैं उसी प्रकार स्लिप डिस्क कमजोर हो जाती हैं इस स्थिति में डिस्क के आगे बढ़ने की संभावना अधिक होती हैं।

 

  • गलत तरीको से व्यायाम करने के कारण।

 

  • कुछ लोगों को स्लिप डिस्क जैसी बीमारी अनुवांशिक होती हैं।

 

  • अचानक झटका लगने या फिर धक्का लगने से भी स्लिप डिस्क अपनी जगह से आगे हो जाती हैं।

 

 

 

स्लिप डिस्क का इलाज किस प्रकार हो सकता हैं ?

 

स्लिप डिस्क का इलाज कई तरीको से किया जा सकता हैं परन्तु पूरी तरह से ठीक होने के लिए डॉक्टर की सलाह तथा उनके द्वारा दी गयी दवाइयों का सेवन करना ही सबसे उचित होगा। सबसे पहले डॉक्टर द्वारा जाँच कराई जाती हैं ताकि इस बीमारी का इलाज उसके अनुसार हो जाये।

 

 

दवाइयाँ(medicine): डॉक्टर के पास इलाज करवाने से वह आपको दर्द निवारक कुछ दवाइयों का सेवन करने के लिए कहते हैं ऐसा तब होता हैं जब स्लिप डिस्क बीमारी सामान्य हो ताकि वह दवाइयों से खत्म हो जाये।

 

 

फिजियोथेरेपी(physiotherapy): दूसरी सलाह डॉक्टर आपको फिजियोथेरेपी की देते हैं इसमें यह होता हैं की आपको दवाइयों के साथ -साथ कुछ व्ययाम भी करना होता हैं जो की डॉक्टर खुद बताते हैं।

 

 

ओपन सर्जरी(open surgery): अगर मरीज को दवाइयों और फिजियोथेरेपी के कई महीनो बाद भी आराम नहीं होता हैं तो डॉक्टर ओपन सर्जरी की मदद लेते हैं इस सर्जरी में पूरी डिस्क को न निकालकर सिर्फ क्षतिग्रस्त हिस्से को निकाल दिया जाता हैं।

 

 

और पढ़े: (स्लिप डिस्क सर्जरी के इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल और डॉक्टर की लिस्ट)

 

 

 

स्लिप डिस्क के लिए अच्छे अस्पताल-

 

 

  The #1 Best Nut to Slow Aging, Says Dietitian — Eat This Not That

स्लिप डिस्क के लिए गुरुग्राम के अच्छे अस्पताल-

 

 

 

 

स्लिप डिस्क के लिए दिल्ली के अच्छे अस्पताल –

 

 

 

 

यदि आपको इससे जुड़ी कोई समस्या है और अगर आप इसका इलाज पाना चाहते हैं तो हमसे संपर्क कर सकते हैं। हमसे संपर्क करने के लिए हमारे इस व्हाट्सएप नम्बर (+919599004311) या हमें [email protected] पर ईमेल कर सकते हैं।

 

 

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


 

 



Source link

Leave a Comment