क्या होता है पोस्टपार्टम डिप्रेशन? यहां जानें इसकी ABCD



<p style="text-align: justify;">पोस्टपार्टम डिप्रेशन एक प्रकार का डिप्रेशन है जो बच्चे को जन्म देने के बाद होता है. ये 15 फीसदी महिलाओं को प्रभावित करता है. एक्सपर्ट्स के अनुसार इस समस्या से पीड़ित लोग भावनात्मक उतार-चढ़ाव, निरंतर रोना, थकान, अपराध बोध और चिंता का अनुभव करते हैं. अपने बच्चे की देखभाल करना उनके लिए मुश्किल हो सकता है.</p>
<p style="text-align: justify;">बच्चे के जन्म के बाद लोग मौद्रिक, भावनात्मक, शारीरिक, हार्मोनल और सामाजिक परिवर्तनों का भी सामना करते हैं. इन बदलावों से पोस्टपार्टम डिप्रेशन के लक्षण विकसित हो सकते हैं. दवा और परामर्श से इसका उपचार हो सकता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>पोस्टपार्टम ब्लूज या बेबी ब्लूज</strong></p>
<p style="text-align: justify;">प्रसव के बाद 50 से 75 प्रतिशत बच्चों को ब्लूज होता है. यह स्थिति अक्सर जन्म के एक से चार दिन के बाद पहले सप्ताह में आती है. लक्षणों में अक्सर मूड में बदलाव, बार-बार रोना, एकाग्रता में कमी, चिड़चिड़ापन और उदासी शामिल हैं. बेबी ब्लूज प्रसव के दो या तीन दिनों के भीतर शुरू होता है और दो सप्ताह तक रह सकता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>पोस्टपार्टम डिप्रेशन</strong></p>
<p style="text-align: justify;">पोस्टपार्टम डिप्रेशन बेबी ब्लूज से कहीं अधिक गंभीर है. इससे सात में से एक माता-पिता प्रभावित होते हैं. इसमें रोना, चिड़चिड़ापन, थकान और अपने बच्चे या खुद को देखभाल करने में असमर्थता शामिल हैं. लेकिन लक्षणों को महीनों तक रहना संभव है. इसलिए मनोचिकित्सा या अवसादरोधी दवाएं काम करती हैं.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>पोस्टपार्टम मनोविकृति</strong></p>
<p style="text-align: justify;">पोस्टपार्टम मनोविकृति एक गंभीर रूप है पोस्टपार्टम डिप्रेशन. इसके लिए तुरंत उपचार की आवश्यकता है. यह दुर्लभ परिस्थिति है, जो प्रसव के बाद 1,000 में से 1 को प्रभावित करती है. प्रमुख लक्षणों में गंभीर उत्तेजना, भ्रम, निराशा और शर्म की भावना, अनिद्रा, भ्रम या मतिभ्रम और अति सक्रियता शामिल हैं. इसका तत्काल उपचार आवश्यक है क्योंकि इससे आत्महत्या और बच्चे को चोट लगने का खतरा बढ़ जाता है. इलाज अक्सर दवा, अस्पताल या मनोचिकित्सा से होता है.</p>
<h3 style="text-align: justify;"><strong>क्या हैं लक्षण</strong></h3>
<ul>
<li style="text-align: justify;">दुखी, निराश या दोषी महसूस करना.</li>
<li style="text-align: justify;">अत्यधिक चिंता करना या घबराहट महसूस होना.</li>
<li style="text-align: justify;">सोचने या ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई.</li>
<li style="text-align: justify;">आत्महत्या के विचार.</li>
<li style="text-align: justify;">अपने बच्चे में रुचि की कमी या अपने बच्चे के आसपास चिंतित महसूस करना.</li>
<li style="text-align: justify;">अपने बच्चे को चोट पहुंचाने के विचार या ऐसा महसूस होना कि आप अपने बच्चे को नहीं चाहते.</li>
</ul>
<h3 style="text-align: justify;"><strong>क्या रहता है जोखिम</strong></h3>
<ul>
<li style="text-align: justify;">फैमिली हिस्ट्री.</li>
<li style="text-align: justify;">गर्भावस्था के दौरान स्वास्थ्य जटिलताएं.</li>
<li style="text-align: justify;">सिंगल पैरंट्स.</li>
</ul>
<h3 style="text-align: justify;"><strong>किस तरह कर सकते हैं बचाव</strong></h3>
<ul>
<li style="text-align: justify;">अपने और अपने बच्चे के प्रति अपनी अपेक्षाओं के बारे में यथार्थवादी बनें.</li>
<li style="text-align: justify;">मदद मांगें – दूसरों को बताएं कि वे आपकी कैसे मदद कर सकते हैं.</li>
<li style="text-align: justify;">टहलें और आराम के लिए घर से बाहर निकलें.</li>
<li style="text-align: justify;">अपने परिवार और दोस्तों के साथ संपर्क में रहें – खुद को अलग न करें.</li>
<li style="text-align: justify;">कुछ अच्छे दिन और कुछ बुरे दिन के लिए भी तैयार रहें.</li>
</ul>
<div dir="auto"><em><strong>Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें.</strong></em></div>
<p><strong>यह भी पढ़ें- <a title="पीठ में दर्द हो तो हल्के में न लें हो सकता है हार्ट अटैक का खतरा जानें कैसे?" href="https://www.abplive.com/lifestyle/if-you-have-back-pain-do-not-take-it-lightly-there-may-be-a-risk-of-heart-attack-2568230" target="_blank" rel="noopener">पीठ में दर्द हो तो हल्के में न लें हो सकता है हार्ट अटैक का खतरा जानें कैसे?</a></strong></p>



Source link

  Be Here Now: How to Exercise Mindfully

Leave a Comment