जाने डिप्रेशन आपकी सेक्स लाइफ को कैसे नुकसान पंहुचा सकता है


 

डिप्रेशन से सेक्स लाइफ में होने वाले प्रभाव (Depression se sex life main hone wale Prabhav in Hindi)

 

अवसाद (डिप्रेशन) आपके जीवन को कई तरह से प्रभावित कर सकता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह आपकी सेक्स ड्राइव को भी कम कर सकता है। हाँ यह सच है। डिप्रेशन का असर आपकी सेक्स लाइफ को भी बर्बाद कर सकता है। एक शोध से पता चला है कि यदि आप पुराने अवसाद से पीड़ित हैं, तो आपको स्तंभन दोष (Erectile dysfunction) जैसी यौन समस्याएं होने की अधिक संभावना है। साथ ही, अवसाद का इलाज करने के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं भी आपके कामेच्छा (Libido) पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती हैं।

 

 

SAGE में प्रकाशित 2018 के अध्ययन में 106 प्रतिभागियों को शामिल किया गया था। वे सभी विवाहित जोड़े थे। इस अध्ययन में, यह पाया गया कि एक या दोनों जोड़ों को जो अवसाद का निदान किया गया था, उनमें सेक्स से संबंधित बातचीत और सेक्स में रुचि में महत्वपूर्ण गिरावट देखी गई।

 

 

डिप्रेशन सेक्स जीवन को कैसे प्रभावित करता है? (Depression sex Jeevan ko Kaise prabhavit Karta Hain in Hindi)

 

 

जब आप अवसाद से पीड़ित होते हैं, तो आप असहाय और निराशा की भावना का अनुभव करते हैं। ये नकारात्मक भावनाएँ आपके यौन जीवन सहित आपके दैनिक कार्य को भी प्रभावित करती हैं। यह समस्या कई दिनों से लेकर हफ्तों तक बनी रह सकती है। आपकी यौन इच्छा आपके मस्तिष्क से उत्पन्न होती है। यह आपके शरीर को न्यूरोट्रांसमीटर (रसायन जो आपके मस्तिष्क के दूतों के रूप में कार्य करते हैं) के माध्यम से आपके यौन अंगों तक रक्त के प्रवाह को बढ़ाने का संदेश देता है। अवसाद इन रसायनों को प्रभावित करता है, जिससे मस्तिष्क के लिए अपने यौन अंगों को संकेत भेजना मुश्किल हो जाता है जैसे ही आप सेक्स करने की इच्छा व्यक्त करते हैं।

  इस कैंसर से जूझ रहे थे ISRO चीफ सोमनाथ, जानें कब से कराना चाहिए इसका इलाज, जिससे ठीक हो जाए बीमारी

 

 

डिप्रेशन सेक्स में रुचि को कम कर सकता है ( Dperession sex main ruchi ko kam kar sakta hain in hindi)

 

 

कई शोधों में यह भी कहा गया है कि जो लोग अवसाद से ग्रस्त होते हैं वे सेक्स में रुचि खोने लगते हैं, भले ही आपका साथी आपको कितना सहज महसूस कराता हो, लेकिन अगर आप अवसाद से पीड़ित हैं तो आपको वह खुशी नहीं मिलेगी। आप वह नहीं कर पाएंगे जो आपको करना चाहिए।

 

 

ऐसी स्थिति में, ध्यान रखें कि यदि आपको कभी लगता है कि आप अवसाद से पीड़ित हैं और सेक्स में रुचि कम हो रही है, तो अवसाद का इलाज करने के साथ-साथ किसी सेक्सोलॉजिस्ट से संपर्क करें। मनोवैज्ञानिक और सेक्सोलॉजिस्ट दोनों रिश्तों से जुड़ी समस्याओं को सुलझाने में आपकी मदद करेंगे।

 

 

डिप्रेशन प्रकृति में बदलाव का कारण बन सकता है

 

 

सेक्स हमारे शरीर की जरूरत है, जो समय-समय पर बहुत जरूरी है। सेक्सोलॉजिस्ट मानते हैं कि हर 15 दिन में एक बार सेक्स करना चाहिए। लेकिन जब यह संभव नहीं होता है, तो यह हमारी प्रकृति पर भी सीधा प्रभाव डालता है।

 

 

सेक्स शरीर की जरूरतों में से एक है जिसे एक निश्चित समय के बाद किया जाना चाहिए। क्योंकि यह न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक संतुष्टि भी प्रदान करता है। लेकिन जब कोई व्यक्ति अवसाद की चपेट में होता है, तो वह उस तरह से सेक्स के आनंद को महसूस नहीं कर पाता है जैसा कि एक सामान्य व्यक्ति कर सकता है। ऐसे में इसका सीधा असर व्यक्ति के स्वभाव में जलन और उदासी के रूप में देखा जाता है। जब एक महिला अपनी इच्छा के विरुद्ध यौन संबंध बनाने में सक्षम नहीं होती है तो यह उसके स्वभाव को भी प्रभावित करता है। यही कारण है कि अवसाद को समय रहते नियंत्रित किया जाना चाहिए।

  What should not be eaten in ovarian cyst. - GoMedia

 

 

डिप्रेशन के कारण रिश्ते में लड़ाई-झगड़े बढ़ सकते हैं

 

 

डिप्रेशन से जूझ रहे व्यक्ति की सेक्स लाइफ न केवल खराब होती है, बल्कि इससे रिश्ते में कई तरह की समस्याएं भी आती हैं। यह कहना गलत नहीं होगा कि सेक्स एक रिश्ते में प्यार और निकटता बढ़ाने के लिए एक पुल का काम करता है। एक समय के बाद संबंध सेक्स पर निर्भर हो जाता है। लेकिन जब अवसाद शरीर से टकराता है, तो महिला सेक्स के दौरान या यौन इच्छा के लिए अपना 100% देने में असमर्थ होती है।

 

 

अपने लिए सोचें कि अगर आपके साथी में सेक्स की तीव्र इच्छा है लेकिन उसी समय दूसरा साथी इसके लिए मना कर रहा है, तो रिश्ते में तनाव किस स्तर तक आ सकता है। ऐसी स्थिति में रिश्ते में लड़ाई, नोक-झोंक बढ़ जाना और गलतफहमी होना आम बात हो गई है। अंत में, परिणाम यह होता है कि दंपति में दूरी बढ़ने लगती है और आदमी शारीरिक सुख के लिए दूसरा विकल्प तलाशने लगता है।

 

 

निष्कर्ष

 

इसमें कोई संदेह नहीं है कि अवसाद शरीर का ऐसा दुश्मन है जो व्यक्ति को बहुत खोखला बना देता है। नींद की कमी, भूख न लगना, आत्मविश्वास की कमी, उदास रहना या चिड़चिड़ापन अवसाद के कुछ सामान्य लक्षण हैं। क्योंकि यह आपके यौन जीवन को प्रभावित करता है और अन्य अंगों को भी नुकसान पहुंचाता है। अगर आपको इनमें से कोई भी 2 या 3 लक्षण अपने अंदर दिखे तो बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करें

  Tears and Cry Facts: Some people have less, some more tears, do you know the real reason

 

 

इससे सम्बंधित कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें।। आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर भी संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें [email protected] पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।

 

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


 

 



Source link

Leave a Comment