टाइप-2 डायबिटीज से निपटना है तो बदल लीजिए अपनी लाइफस्टाइल, छोटे बदलाव करेंगे बड़ा बचाव


Type 2 Diabetes: टाइप-2 डायबिटीज एक लाइलाज बीमारी है लेकिन अगर आप अपनी लाइफस्टाइल में बदलाव करते हैं तो इसे कंट्रोल कर सकते हैं. डाइट में बदलाव, रोजाना एक्सरसाइज कर इसे आसानी से काबू में किया जा सकता है. टॉइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार, कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज के एंडोक्रिनोलॉजी के डायरेक्टर और प्रोफेसर डॉ. एसवी मधु ने बताया कि चूंकि Type 2 Diabetes अनहेल्दी लाइफस्टाइल से ही होती है, इसलिए सिर्फ लाइफस्टाइल में बदलाव कर इसे कंट्रोल किया जा सकता है. 

 

इसके लिए 15 किलो या उससे ज्यादा वजन कम करने की जरूरत होती है, खासकर उन लोगों के लिए जिनका वजन ज्यादा है या मोटे हैं. मतलब अगर आप मोटापा कम कर लें तो काफी हद तक डायबिटीज का खतरा कम या उसे कंट्रोल किया जा सकता है.

 

क्या डायबिटीज कंट्रोल होने पर दवा की जरूरत

मेदांता मेडिसिटी के एंडोक्रिनोलॉजी और डायबेटोलॉजी के डायरेक्टर डॉ. जसजीत सिंह वसीर ने बताया कि नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल पर दवा की कोई जरूरत नहीं होती है. डॉ. मोहन डायबिटीज स्पेशलिटी सेंटर और मद्रास डायबिटीज रिसर्च फाउंडेशन के प्रेसीडेंट  डॉ. वी. मोहन ने कहा, कुल मिलाकर 5% से भी कम लोगों को ही राहत मिलती है. उन्होंने कहा कि ब्लड शुगर का लेवल 5.6 से कम होने पर ही राहत माना जाता है.

 

क्या डायबिटीज दोबारा से अनकंट्रोल हो सकता है

डॉक्टर मधु ने बताया कि एक बार कंट्रोल होने के बाद भी डायबिटीज के अनकंट्रोल होने की आशंका हमेशा बनी रहती है, क्योंकि डायबिटीज का कोई इलाज ही नहीं है. हां, अगर आप सही दिनचर्या जीते हैं तो डायबिटीज होने का खतरा कम रहता है. मरीज जितना ज्यादा मोटा होगा, वजन कम करने पर उसे इस बीमारी का जोखिम उतना ही कम होता है. 

  It is decreasing rapidly without doing anything, the reason should be alert.. There may be a hint towards these diseases

 

क्या ज्यादा मोटापा खतरनाक

डायबिटीज एंड एंडोक्रिनोलॉजी, फोर्टिस सी-डॉक हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ. अनूप मिश्रा का कहना है कि डायबिटीज कंट्रोल होना कुछ ही समय के लिए हो सकता है. ऐसे लोग जिन्हें हाल ही में पता चला है कि उन्हें डायबिटीज है और वे मोटापे की चपेट में हैं तो उनमें बचने की संभावना ज्यादा होती है, जो मोटे नहीं हैं. डायबिटीज कम टाइम पीरियड वाले मरीजों में कंट्रोल होने की संभावना ज्यादा होती है, जो लोग अपने शुरुआती वजन का 15% से ज्यादा वजन कम करते हैं, उनमें छूट की संभावना 80 परसेंट तक ज्यादा होती है.

 

क्या बेरिएट्रिक सर्जरी मोटापा कम कर सकता है 

एम्स के प्रोफेसर और सलाहकार बेरिएट्रिक सर्जन डॉ. संदीप अग्रवाल ने कहा कि बेरिएट्रिक सर्जरी वजन कम करने में मददगार हो सकती है, जो  टाइप-2 डायबिटीज कंट्रोल करने में महत्वपूर्ण है. बेरिएट्रिक सर्जरी के बाद वजन घटाने के एनालिसिस से पता चला है कि 86.6% मरीजों में डायबिटीज में सुधार हुआ है.

 

डायबिटीज कंट्रोल करने क्या करें

1. हर दिन एक्सपर्ट्स की देखरेख में 800 या उससे कम कैलोरीज लेना. आमतौर पर प्रतिदिन 1600-2000 कैलोरी लेनी चाहिए.

2. 20-20 ग्राम लो कार्ब डाइट एक्सपर्ट्स की देखरेख में लें. आमतौर पर एक इंसान को रोजाना 200 ग्राम कार्बोहाइड्रेट लेना चाहिए.

3.  सही डाइट प्लान के साथ इंस्सटेंस एक्सरसाइज पर फोकस करें.

4. बेरिएट्रिक सर्जरी की मदद ले सकते हैं.

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Calculate The Age Through Age Calculator



Source link

Leave a Comment