पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जरी क्या है, जानिए यह कब की जाती है?-GoMedii


हमारा दिल हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। हृदय के सबसे महत्वपूर्ण कार्य की बात करें तो यह मानव शरीर में रक्त परिसंचरण को बनाए रखता है। इसके अलावा रक्त के माध्यम से बाकी अंगों तक पोषण और ऑक्सीजन पहुंचाता है। यह सर्कुलेटरी सिस्टम का एक हिस्सा है, जो बिना रुके चलता रहता है। इसलिए दिल को स्वस्थ रखना बहुत जरूरी है। उदाहरण के लिए, दो अटरिया और दो निलय वाले हृदय के चार कक्षों पर विचार करें। इनमें नसों और धमनियों का एक जटिल नेटवर्क होता है, जिसके माध्यम से शरीर रक्त को बाकी अंगों तक पहुंचाता है। लेकिनकिसी कारण से इन नसों और धमनियों में रुकावट आ जाती है, तो इससे हृदय रोग से जुड़ी समस्या हो सकती है। जिसके बाद उस व्यक्ति को हार्ट सर्जरी की आवश्यकता होती है। आज उन्हीं में से एक सर्जरी के बारे में हम बात करेंगे जिसका नाम है पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जरी। आइए जानते हैं की यह क्या है और यह सर्जरी कब की जाती है।

 

 

 

आप में से बहुत से लोगों को यह नहीं मालूम होगा कि पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जरी जन्मजात हृदय दोष वाले बच्चों में की जाने वाली एक शल्य प्रक्रिया है। दरअसल यह सबसे आम जन्म दोष हैं जो हृदय के वाल्व, दीवारों और रक्त वाहिकाओं से संबंधित विकारों का कारण बनता है। इसके अलावा ये हृदय के माध्यम से सामान्य रक्त प्रवाह को भी प्रभावित करता है। वाल्वों के अनुचित बंद होने से, अटरिया या निलय में वेध और रक्त वाहिकाओं में खराब संबंध के कारण गलत दिशा में रक्त के प्रवाह के कारण ही पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जरी डॉक्टर द्वारा की जाती है। जन्मजात हृदय दोष (सीएचडी) गर्भावस्था के पहले तिमाही के दौरान आनुवंशिक असामान्यताओं (abnormalities) के कारण होता है।

  There are many benefits of eating cashew nuts soaked in milk, know how much food is good for health

 

 

डॉक्टर बच्चों को पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जरी की सलाह क्यों देते हैं ?

 

कार्डियक सर्जरी की आवश्यकता जन्मजात हृदय रोग के लक्षण के आधार पर कि जाती है।

 

  • सांस लेने में कठिनाई होना

 

 

 

  • सायनोसिस (cyanosis)

 

  • बच्चे के विकास में परेशानी

 

 

  • बच्चे का वजन नहीं बढ़ता है।

 

 

डॉक्टर बच्चों में पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जरी कैसे करते हैं?

 

  • कार्डियक सर्जरी से पहले, डॉक्टर जन्म के समय या जन्म के बाद जन्मजात हृदय दोषों के निदान के लिए कुछ परीक्षण कर सकते हैं।

 

  • इकोकार्डियोग्राम या अल्ट्रासाउंड।

 

  • कार्डिएक कैथीटेराइजेशन हृदय तक पहुंचने के लिए रक्त वाहिका के माध्यम से कैथेटर डालकर हृदय की असामान्यताओं का निदान करने में भी सहायक हो सकता है।

 

  • दिल की विद्युत गतिविधि (electrical activity) को इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम द्वारा मापा जा सकता है ताकि यह देखा जा सके कि कोई अनियमितता तो नहीं है।

 

  • हृदय में विकारों का पता लगाने के लिए छाती का एक्स-रे भी किया जा सकता है।

 

 

हृदय रोग की शुरुआत कैसे होती है?

 

हर किसी को हृदय रोग होने का खतरा होता है। लेकिन कुछ लोगों को इन कारणों से हृदय रोग होने का खतरा अधिक होता है।

 

 

 

  • मोटापे के कारण

 

 

 

  • खराब लाइफस्टाइल के कारण

 

 

  • शिशुओं में जन्मजात हृदय दोष का इलाज कई तरीकों से किया जा सकता है।

 

 

बच्चों में पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जरी कैसे किया जाता हैं?

 

कैथेटर प्रोसीजर: इसमें एक कैथेटर, एक छोटी लचीली ट्यूब, बच्चे के हाथ के माध्यम से डाली जाती है। इसे हृदय तक पहुंचाया जाता है। हार्ट सर्जरी के लिए छाती में चीरा लगाने की आवश्यकता नहीं होती है और इसलिए यह एक बेहतर तरीका है। इससे मरीज को ठीक होने में लगने वाला समय भी कम हो जाता है। यह प्रक्रिया आमतौर पर सेप्टल दोष और वाल्व स्टेनोसिस के लिए उपयोग की जाती है। दिल तक कैथेटर का मार्गदर्शन करने के लिए इकोकार्डियोग्राफी का उपयोग किया जाता है।

  I did 40 renegade rows a day for a week — here’s what happened

 

ओपन हार्ट सर्जरी: इस प्रक्रिया में उन दिल को संचालित करने के लिए डॉक्टर छाती में एक बड़ा चीरा लगाता है। जिनका इलाज कैथेटर प्रक्रियाओं द्वारा नहीं किया जा सकता है। इस पद्धति का उपयोग अक्सर हृदय, हृदय वाल्व (heart valves) और जटिल दोषों (complex defects) में छिद्रों की मरम्मत के लिए किया जाता है। दिल के ऑपरेशन के दौरान, रोगी को रक्त प्रवाह को नियंत्रित करने के लिए हृदय-फेफड़े की बाईपास मशीन से जोड़ा जाता है।

 

 

भारत में पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जरी की लागत कितनी है?

 

भारत में में ओपन हार्ट सर्जरी लगभग 1.50 लाख रुपये से लेकर 2.50 लाख रुपये के बीच में होती हैं। बच्चों के लिए, ओपन हार्ट सर्जरी में की लगत लगभग 1.25 लाख रुपये से 2 लाख रुपये के बीच में होती हैं। यदि हम वाल्व सर्जरी की बात करें तो 2.5 लाख रुपये से 2.75 लाख रुपये के बीच हो सकती है। यदि आप किसी भी तरह की हार्ट सर्जरी करवाना चाहते हैं, तो आप हम से संपर्क कर सकते हैं।

 

 

पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जरी के लिए दिल्ली के सबसे अच्छे अस्पताल

 

 

 

 

 

हमने आपको पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जरी क्या है, यह कैसे की जाती है इससे जुड़ी सभी जानकारी देने की कोशिश की है। यदि आप पीडियाट्रिक कार्डियक सर्जरी करवाना चाहते हैं तो आप GoMedii को इसके लिए चुन सकते हैं। हम भारत में एक चिकित्सा पर्यटन कंपनी के तौर पर काम करते हैं। इसके साथ ही हम शीर्ष श्रेणी के अस्पतालों और डॉक्टरों से जुड़े हैं। अगर आप इलाज पाना चाहते हैं तो हमसे संपर्क कर सकते हैं। हमसे संपर्क करने के लिए  हमारे इस  व्हाट्सएप (+91 9599004311)  या हमें [email protected] पर ईमेल कर सकते हैं।

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।

  बल्जिंग डिस्क का इलाज क्या है, जाने इसके सर्जरी का खर्च? | bulging disc ka Ilaj in hindi - GoMedii

 

 



Source link

Leave a Comment