पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर होने पर जानिए इसका कारण और इलाज? – GoMedii


सभी महिलाओं के हार्मोनल स्तर में बदलाव होता है और यह बिल्कुल आम बात है। ऐसे होने पर महिलाओं के शरीर में कई बदलवा होते हैं और हार्मोनल बदलाव से जुड़े कई जोखिम भी पैदा हो सकते हैं। उनमें से एक पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) है। इसे पॉलीसिस्टिक ओवरी डिजीज (पीसीओडी) के नाम से भी जाना जाता है। इस पर हुई रिसर्च के बाद यह पता चला कि 6-10 फीसदी महिलाएं इस समस्या से परेशान होती हैं।

अगर किसी महिला को यह समस्या है तो उसे तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। महिला को अपने डॉक्टर से झिझकना नहीं चाहिए। पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर का कोई पूर्ण इलाज नहीं है, लेकिन आहार और जीवनशैली में बदलाव करके आप इस बीमारी से काफी हद तक बच सकते हैं। कई महिलाएं जानना चाहती हैं कि क्या बिना दवा के पीसीओएस का इलाज संभव है, तो आपको इस जवाब के बारे में और जानने के लिए पूरा लेख पढ़ना चाहिए।

 

 

पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर के कारण क्या हैं? (What are the causes of Polycystic Ovary Disorder in Hindi)

 

 

पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर का मुख्य कारण है हार्मोन के स्तर में बदलाव, जिसके कारण अंडाशय में अंडे पूरी तरह से विकसित नहीं होते हैं और उनके लिए अंडाशय से बाहर आना मुश्किल हो जाता है। हालांकि वैज्ञानिक रूप से यह कहना मुश्किल है कि पीसीओडी क्या होता है, इसके बारे में आम धारणाएं इस प्रकार हैं:

 

  • अनुवांशिक कारण : कुछ महिलाओं में पीसीओएस की समस्या अनुवांशिक भी हो सकती है। यह समस्या एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में स्थानांतरित हो सकती है। हालांकि, इस संबंध में वैज्ञानिक शोध की कमी है, लेकिन जिनकी मां को यह समस्या रही है, उन्हें ज्यादा सावधान रहना चाहिए।

 

  • इंसुलिन का असंतुलन होना : शरीर में पाया जाने वाला इंसुलिन हार्मोन भी पीसीओएस का कारण बन सकता है। दरअसल, आहार में पाए जाने वाले शर्करा और स्टार्च को ऊर्जा में बदलने का काम हार्मोन करते हैं। वहीं, जब इंसुलिन का संतुलन गड़बड़ा जाता है, तो एंड्रोजन हार्मोन में वृद्धि होती है। इससे ओव्यूलेशन प्रक्रिया पर पड़ने वाले प्रभाव को पढ़ना शुरू हो जाता है और महिलाओं में पीसीओडी की समस्या उत्पन्न हो जाती है।

 

  • पुरुष के हार्मोन में वृद्धि: कभी-कभी महिलाओं के अंडाशय अधिक पुरुष हार्मोन (एण्ड्रोजन) का उत्पादन करने लगते हैं। पुरुष हार्मोन के अत्यधिक उत्पादन के कारण, ओव्यूलेशन की प्रक्रिया के दौरान अंडे का बाहर आना मुश्किल होता है। इस स्थिति को चिकित्सकीय रूप से हाइपरएंड्रोजेनिज्म कहा जाता है।
  Drinking tea and coffee before breakfast can be dangerous for your health, it will gradually make you a victim of these diseases.

 

  • खराब लाइफस्टाइल: खराब लाइफस्टाइल के कारण भी यह समस्या हो सकती है। जंक फूड के अधिक सेवन से शरीर को पर्याप्त पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं। इसके साथ ही ड्रग्स और सिगरेट का सेवन भी इस बीमारी का एक कारण है।

 

 

 

यदि कोई महिला पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर का इलाज करवाना चाहती है तो इसके लिए आप हमसे संपर्क कर सकते हैं इसके लिए आप हमारे डॉक्टर से भी संपर्क कर सकते हैं। हमसे संपर्क करने के लिए  यहाँ क्लिक करें

 

 

पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर (पीसीओडी) और पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के बीच अंतर क्या है? (Difference between Polycystic Ovary Disorder (PCOD) and Polycystic Ovary Syndrome in Hindi)

 

पीसीओडी और पीसीओएस एक दूसरे से अलग हैं। हालांकि, उनके शुरुआती लक्षण और इलाज एक जैसे ही हैं। यदि वे अपने शुरुआती चरण में हैं, तो उन्हें सकारात्मक जीवनशैली में बदलाव करके ठीक किया जा सकता है। पीसीओडी और पीसीओएस के बीच का मुख्य अंतर क्या हैं:

 

  • पीसीओडी एक सामान्य स्थिति है जबकि पीसीओएस एक गंभीर समस्या है।

 

  • पीसीओडी का इलाज स्वस्थ आहार और जीवनशैली से किया जा सकता है, जबकि पीसीओएस के इलाज के लिए सकारात्मक जीवनशैली में बदलाव के साथ-साथ दवा की भी आवश्यकता होती है।

 

  • पीसीओडी के साथ गर्भधारण करना संभव है जबकि पीसीओएस की स्थिति में गर्भधारण करना मुश्किल होता है।

 

  • पीसीओडी पीसीओएस से ज्यादा आम है। पीसीओएस महिलाओं में कम देखा जाता है, जबकि पीसीओडी से पीड़ित महिलाओं की संख्या पूरी दुनिया में ज्यादा है।

 

  • पीसीओएस वाली गर्भवती महिलाओं को मधुमेह होने का खतरा होता है जबकि पीसीओएस वाली गर्भवती महिलाओं में मधुमेह होने का जोखिम बहुत कम या बिल्कुल नहीं होता है।

 

  • यदि पीसीओएस का समय पर इलाज नहीं किया जाता है, तो यह गर्भाशय के कैंसर का कारण बन सकता है।

 

 

पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर के इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल (Best Hospital for Polycystic Ovary Disorder treatment in Hindi)

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

यदि आप इनमें से किसी भी अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

क्या पीसीओएडी बिना दवा के ठीक हो सकता है? (PCOD Can be cured without medicine in Hindi)

 

  If you do not eat eggs or have allergies, then eat these 3 things

पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर का इलाज दवाओं के बिना संभव है, लेकिन इसके लिए आपको सही आहार और अच्छी जीवनशैली का पालन करने की जरूरत है। हालांकि पीसीओएस को पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता है, लेकिन आप इस बीमारी को काफी हद तक नियंत्रित कर सकते हैं।

पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर वाली कई महिलाएं गर्भावस्था के चरण तक नहीं पहुंच पाती हैं, इसलिए आपको जल्द से जल्द इसका इलाज और निदान करवाना चाहिए। पीसीओएस का पता हार्मोनल टेस्ट, अल्ट्रासाउंड के जरिए लगाया जाता है।

अगर आपका डॉक्टर कहता है कि आपको पीसीओएस है तो आपको अपनी जीवनशैली बदलनी चाहिए, हालांकि कुछ मामलों में महिलाओं को दवा लेने की सलाह दी जाती है, लेकिन आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए क्योंकि हर मामला अलग होता है।

 

 

पीसीओडी क्या समस्या है? (What is PCOD problem in Hindi)

 

मेडिकल में पीसीओडी का फुल फॉर्म – पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजीज है। पीसीओडी (पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजीज) एक चिकित्सीय स्थिति है जिसमें महिला के अंडाशय बड़ी संख्या में अपरिपक्व या आंशिक रूप से परिपक्व अंडे का उत्पादन करते हैं और समय के साथ ये अंडाशय सिस्ट में बदल जाते हैं। इसके कारण अंडाशय बड़े हो जाते हैं और बड़ी मात्रा में पुरुष हार्मोन (एण्ड्रोजन) का स्राव करते हैं, जिससे बांझपन, अनियमित मासिक धर्म, बालों का झड़ना और असामान्य वजन बढ़ना होता है। पीसीओडी को खान-पान और जीवनशैली में बदलाव से नियंत्रित किया जा सकता है।

 

 

जानिए पीसीओडी के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of PCOD in Hindi)

 

पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिसऑर्डर के निम्नलिखित सामान्य लक्षणों पर ध्यान दें:

 

 

 

  • चेहरे, छाती या पीठ पर मुंहासे होना

 

  • हर 2 से 3 महीने में अनियमित पीरियड्स (अमेनोरिया)

 

  • अधिक रक्तस्राव होना

 

  • कमर के हिस्से के आसपास तेजी से वजन बढ़ना

 

  • शरीर और चेहरे के बालों का असामान्य विकास

 

  • पिग्मेंटेशन या गर्दन की त्वचा का काला पड़ना (Acanthosis nigricans)

 

यदि आपको ऐसे कोई भी लक्षण देखनेको मिलते हैं तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए इसके लिए आप हमारे डॉक्टर से भी ऑनलाइन कंसल्ट कर सकते हैं।

 

 

पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर से बचने के उपाय? (How to avoid polycystic ovary disorder in Hindi)

 

 

पीसीओडी का इलाज कई तरह से किया जा सकता है। इसके उपचार का मुख्य उद्देश्य लक्षणों को कम करना या समाप्त करना और भविष्य में होने वाली समस्याओं को रोकना है। पीसीओडी का इलाज हर मरीज में अलग-अलग होता है। पीसीओडी का उपचार कुछ उपायों से किया जा सकता है। जिसमें शामिल है:

  After cyberattack on AIIMS, ICMR website faces 6,000 hacking attempts in 24 hours - ET HealthWorld

इस बीमारी का इलाज करने के लिए सबसे पहले उस महिला को अपनी जीवन शैली में परिवर्तन करना होगा। जीवनशैली और खान-पान में कुछ खास बदलाव करके हार्मोन को संतुलित किया जा सकता है, जिससे पीसीओडी के लक्षण से आपको आराम मिलने लगेगा।

 

  • तनाव से दूर रहें

 

  • संतुलित आहार का सेवन करें

 

  • फाइबर युक्त और कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन का सेवन करें

 

  • अपने आहार में दही, पनीर और अंडा शामिल करें

 

  • दालचीनी का सेवन करें क्योंकि यह इंसुलिन को संतुलित करता है

 

  • आलू, नमकीन और ब्रेड का सेवन ना करें

 

  • मिठाई का सेवन ना करें

 

  • शराब, सिगरेट और अन्य नशीले पदार्थों से दूर रहें

 

  • अपने आहार में हरी पत्तेदार सब्जियां और ताजे फल का सेवन महिला के लिए बहुत फायदेमंद होता है

 

  •  अपनी दिनचर्या में फिजिकल एक्टिविटी को बढ़ाएं। रोजाना सुबह या शाम को हल्का व्यायाम जरूर करें  करें

 

  • साथ ही अगर आपका वजन ज्यादा है तो इसे कम करें या बैलेंस करें। इसके लिए आप ट्रेनर की मदद ले सकते हैं।

 

 

यदि आप पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर का इलाज कराना चाहते हैं या इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें या आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें [email protected] पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी। हम आपका सबसे अच्छे हॉस्पिटल में इलाज कराएंगे।

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


 

 



Source link

Leave a Comment