ब्लैडर कैंसर (Bladder Cancer) क्या है, इसका उपचार कब किया जाता हैं?-GoMedii


मानव का शरीर कई कोशिकाओं से मिलकर बना है और ये कोशिकाएं पूरे शरीर में होती हैं। ये कोशिकाएं शरीर के अंदर बहुत से काम करती हैं। दरअसल शरीर में कोशिकाओं के समूह को ऊतक कहते हैं। ये कोशिकाएं मानव शरीर के सभी अंगो के साथ तालमेल रखती हैं और शरीर के सभी अंग अपना काम करते रहते हैं। हालांकि, कभी कभी ये कोशिकाएं असामान्य रूप से बढ़ने लगती हैं और बाद में ये कैंसर जैसी बीमारी का रूप ले लेती है। ऐसा होने पर कोशिकाएं अनियंत्रित हो जाती हैं और शरीर के विकास तंत्र को बाधित कर देती हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार डीएनए में असामान्य बदलाव से कैंसर होता है। यहाँ हम बात कर रहें हैं ब्लैडर कैंसर के बारे में जिसे मूत्राशय कैंसर भी कहा जाता है। आइये आपको बताते हैं की यह क्या है ?

 

 

ब्लैडर कैंसर अक्सर तब होता है जब मूत्राशय की कोशिकाओं में असामान्य विकास होता है। इसका सबसे सामान्य लक्षण है जब किसी व्यक्ति के पेट में दर्द होता हो और यह दर्द काफी लम्बे समय से हो रहा है तो ये ब्लैडर कैंसर की शुरुआत हो सकती है। लेकिन कई लोग इसे नजरअंदाज कर देते हैं। इस वजह से समस्याकुछ समय बाद गंभीर बीमारी का रूप ले लेती है। मूत्राशय के कैंसर वाले लोगों को अधिक दर्द  का अनुभव होता है।

आपको बता दें इस वजह से कुछ लोगों की मौत भी हो जाती है। सटीक जानकारी के अभाव में कई लोग मूत्राशय के कैंसर से पीड़ित होते हैं। ब्लैडर कैंसर के लक्षणों और लक्षणों का निदान और उपचार समय पर किया जाना चाहिए। आज हम आपको मूत्राशय के कैंसर के बारे में  विस्तार से बताएंगे।

  ‘You’re not alone’: Desert Sands Ketamine offers a lifeline to people battling depression, chronic pain

 

ब्लैडर कैंसर की कितनी स्टेज होती हैं?

 

ब्लैडर कैंसर की शुरुआत बहुत धीमी गति से होती है, जो कुछ समय बाद शरीर के अन्य हिस्सों में पहुंच जाती है। इसके आधार पर ब्लैडर कैंसर का स्तर निर्धारित किया जाता है, जो मुख्य रूप से 3 प्रकार के होते हैं:

 

मूत्राशय की दीवार में ट्यूमर– मूत्राशय के कैंसर का पहला चरण मूत्राशय की दीवार में ट्यूमर का बनना है। इस स्थिति में व्यक्ति को ब्लैडर कैंसर के लक्षण दिखाई नहीं देते, जिससे उन्हें पता ही नहीं चलता कि वे ब्लैडर कैंसर से पीड़ित हैं।

 

कैंसर लिम्फ नोड: ब्लैडर कैंसर दूसरे चरण में लिम्फ नोड तक पहुंचता है। ऐसे में इससे पीड़ित लोगों में शुरुआती लक्षण दिखने लगते हैं, जिससे उन्हें दर्द का सामना करना पड़ता है।

 

कैंसर जो शरीर के अन्य भागों में फैल जाए : मूत्राशय के कैंसर के तीसरे और अंतिम चरण में, यह शरीर के अन्य भागों जैसे फेफड़े, गुर्दे आदि में फैल जाता है। इस स्थिति में, व्यक्ति का मूत्राशय पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो जाता है, जिसके बाद इलाज ही एक मात्र विकल्प होता है।

 

 

ब्लैडर कैंसर की पहचान कैसे करें?

 

हालांकि, मूत्राशय कैंसर से हर साल काफी सारे लोगों की मौत होती है, यदि इसकी पहचान समय रहते कर ली जाए तो इस आंकड़ों को कम किया जा सकता है। इस प्रकार होती है मूत्राशय कैंसर की पहचान जो इस प्रकार है:

 

एक्स-रे: मूत्राशय कैंसर की जांच कई बार एक्स-रे के द्वारा भी कि जाती है। एक्स-रे में मूत्राशय की तस्वीर ली जाती है और यह पता लगाने की कोशिश की जाती है कि मूत्राशय मार्ग में क्या दिक्कत है।

   Plant-Based Protein: Know Health Benefits For Your Well-Being

 

सी.टी. स्कैन: मूत्राशय कैंसर का पता लगाने का आसान तरीका सी.टी.स्कैन कराना है। इस टेस्ट के द्वारा शरीर की अंदरूनी तस्वीर ली जाती है और इसका पता लगाया जाता है कि यह कैंसर शरीर में किस हद तक फैल चुका है।

 

यूरिन साइटोलॉजी: अक्सर, डॉक्टर यूरिन साइटोलॉजी (urine cytology) से भी मूत्राशय कैंसर की जांच करते हैं। इसमें यूरिन के नमूने की जांच माइक्रोस्कोप में रखकर की जाती है और इस बात का पता लगाया जाता है कि क्या किसी व्यक्ति के यूरिन में कैंसर की कीटाणु मौजूद हैं अथवा नहीं।

 

सिस्टोस्कोपी, बायोप्सी: वर्तमान समय में, मूत्राशय कैंसर की पहचान सिस्टोस्कोपी (cystoscope) + बायोप्सी के द्वारा भी की जाती है।

 

 

ब्लैडर कैंसर का इलाज कैसे किया जाता है?

 

आमतौर पर ब्लैडर कैंसर समेत सभी तरह के कैंसर को लाइलाज बीमारी माना जाता है, जिससे लोग इससे निजात नहीं पा पाते हैं। ब्लैडर  कैंसर, एक बीमारी की तरह है, जिसका इलाज किया जा सकता है। अगर कोई व्यक्ति ब्लैडर कैंसर से पीड़ित है तो वह इन 4 तरीकों से इसका इलाज करवा सकता है:

 

टीकाकरण: मूत्राशय के कैंसर का इलाज करने का सबसे आसान तरीका टीका लगवाना है। यह टीकाकरण मूत्राशय के कैंसर को ठीक करने के साथ-साथ इसे शरीर के अन्य भागों में फैलने से रोकने में मदद करता है।

 

कीमोथेरेपी: ब्लैडर कैंसर का कीमोथेरेपी से इलाज किया जाता है। कीमोथेरेपी में कैंसर से पीड़ित लोगों को विशेष दवाएं दी जाती हैं, जो कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने का काम करती हैं।

 

रेडिएशन थेरेपी : अक्सर रेडिएशन थेरेपी भी ब्लैडर कैंसर के इलाज में कारगर साबित हो सकती है। विकिरण चिकित्सा कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने और इस कैंसर से पीड़ित लोगों को राहत देने के लिए उपयोग की जाती हैं।

  Odisha govt to develop strategy to deal with mental health concerns

 

सिस्टेक्टॉमी सर्जरी: जब ब्लैडर कैंसर से पीड़ित लोगों को किसी अन्य तरीके से राहत नहीं मिलती है, तो डॉक्टर उन्हें सिस्टेक्टोमी सर्जरी कराने की सलाह देते हैं। सिस्टेक्टोमी सर्जरी में मुख्य रूप से ब्लैडर को निकालना और पिछले ब्लैडर के पूरी तरह से फट जाने के बाद इसे एक नए से बदलना शामिल है।

 

हमने आपको ब्लैडर कैंसर (Bladder Cancer) के बारे में पूरी जानकरी देने की कोशिश की है, यदि आप ब्लैडर कैंसर (Bladder Cancer) का इलाज करवाना चाहते हैं तो आप GoMedii को इसके लिए चुन सकते हैं। हम भारत में एक चिकित्सा पर्यटन कंपनी के तौर पर काम करते हैं। इसके साथ ही हम शीर्ष श्रेणी के अस्पतालों और डॉक्टरों से जुड़े हैं। यदि आप उपचार प्राप्त करना चाहते हैं तो आप अपने प्रश्नों को हमारे इस व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर भेज सकते हैं  या हमें [email protected] पर ईमेल करें, हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


 

 



Source link

Leave a Comment