महिलाओ में धूम्रपान करने से लंग्स के नुकसान के साथ बांझपन का खतरा – Best Hindi Health Tips (हेल्थ टिप्स), Healthcare Blog – News | GoMedii


नवजात शिशु प्राप्ति में समस्याएं बढ़ती जा रही हैं, और एक नई अध्ययन ने धूम्रपान के खतरों को और अधिक संदेहाजनक बना दिया है। अध्ययन के अनुसार, धूम्रपान न केवल लंग्स को हानि पहुंचाता है, बल्कि बांझपन की भी एक वजह बन सकता है। अध्ययन के अनुसार, तम्बाकू के सेवन से लंग्स में नुकसान होने के अलावा, वैज्ञानिकों ने इसका सीधा संबंध बांझपन के साथ भी देखा है। धूम्रपान के कारण निर्धारित अध्ययन के अनुसार, धूम्रपान से उत्पन्न होने वाले विषाक्त रसायन गर्भाशय में जाने की संभावना होती है, जिससे गर्भाशय के अवयवों को नुकसान पहुंच सकता है और बांझपन की समस्या हो सकती है।

 

डॉ. अनिल शर्मा, एक जाने माने रोग विशेषज्ञ, ने इस अध्ययन के परिणामों को सार्वजनिक किया। उन्होंने कहा, “यह अध्ययन धूम्रपान के जोखिमों को समझने में एक और कदम है। लंग्स के संदर्भ में जो नुकसान होता है, वह हम सभी को पता है, लेकिन इससे जुड़ी गर्भाशय की समस्याओं का उत्थान भी गंभीर हो सकता है। सामान्यत: धूम्रपान करने वाली महिलाओं के लिए बांझपन के खतरे को लेकर इस अध्ययन के परिणाम चिंता का विषय बन रहे हैं। इससे पहले भी कई अध्ययनों ने तम्बाकू के सेवन को गर्भावस्था के दौरान स्वास्थ्य के लिए हानिकारक माना है। इस अध्ययन के परिणाम ने इस बात को और भी पुष्टि दी है कि धूम्रपान का सेवन किसी भी चरण में हानिकारक हो सकता है।

 

इससे पहले तम्बाकू के सेवन को गर्भावस्था के दौरान रोकने के लिए विशेषज्ञों ने महिलाओं को सलाह दी है, लेकिन इन नए अध्ययन के परिणामों के प्रकाश में, धूम्रपान के खतरे को समझना और इससे बचने के लिए नई नीतियों की आवश्यकता है।

  पेट दर्द की छुट्टी और गैस की समस्या होगी दूर, घर में रखा ये मसाला है गुणों से भरपूर

 

स्वास्थ्य सबसे बड़ा धन है, जिसे कोई खर्च नहीं कर सकता।

 

 

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


 

 



Source link

Leave a Comment