मानसून में महिलाओं को होता है सबसे ज्‍यादा यीस्‍ट इंफेक्‍शन,जानें बचने के ये उपाय – GoMedii | Five Tips To Prevent Vaginal Yeast Infection In Women During Monsoon In Hindi


यीस्‍ट इंफेक्‍शन (vaginal yeast infection in hindi) कैंडिडा नामक फंगस (Fungus) से होता है। वैसे तो यह कोई बीमारी नहीं है लेकिन अगर सावधानी न रखी गई तो आगे चल कर यह समस्‍या एक गंभीर रूप ले सकती है।

 

मानसून (Monsoon) का सीजन अपने साथ तमाम तरह की बीमारियां लेकर आता है। इस मौसम में महिलाओं को यीस्‍ट इंफेक्‍शन का खतरा बेहद बढ़ जाता है। योनि (Vagina) में संक्रमण (infection) और खुजली (itching) की वजह से काफी दिक्‍कते आती हैं।

 

कभी-कभी तो महिलाओं को पेशाब करने या यौन संबन्‍ध (Sexual relationship) बनाने के बाद दर्द भी होता है। यीस्‍ट इंफेक्‍शन कैंडिडा नामक फंगस से होता है। वैसे तो यह कोई बीमारी नहीं है लेकिन अगर सावधानी न रखी गई तो आगे चल कर यह समस्‍या एक गंभीर रूप ले सकती है। ऐसे में अपनी योनि की साफ-सफाई पर विशेष ध्‍यान रखना चाहिए।

 

मानसून में यीस्‍ट इंफेक्‍शन से बचने के ये उपाय

 

1. वजाइना की सफाई का रखे ध्‍यान

 

मानसून में संक्रमण से बचने के लिए रोजाना दो बार अपनी वजाइना (Vagina) की सफाई करें। सफाई करते वक्‍त अपनी योनि को आगे से लेकर पीछे तक साफ करें।

 

2. पहनें कॉटन की अंडरवेयर

 

इस मौसम में अगर यीस्‍ट इंफेक्‍शन (yeast infection) से बचना है तो हमेशा सूती यानी कॉटन की ही अंडरवेयर पहनें। योनि में गीलेपन की वजह से वजाइनल इंफेक्‍शन (vaginal infection) होने का खतरा होता है।

 

3. सेक्‍स के बाद योनि की सफाई

 

इस मौसम में सेक्‍स के बाद योनि को अच्‍छी तरह से साफ करना चाहिए। अच्‍छा होगा यदि आप संबन्‍ध बनाने के बाद शावर (shower) ले लें। ऐसा करने से आप यीस्‍ट इंफेक्‍शन से बच सकती हैं।

  Take care of your eyes like this in winter season

 

4. साबुन से रहें दूर

 

योनि को किसी भी सुगन्‍धित साबुन (Scented soap) से न धोएं। यह साबुन योनि के लिए बेहद कठोर होते हैं जो उसे ड्राई बना देते हैं। साथ ही इनमें मौजूद कैमिकल (Chemical) आपकी योनि को संक्रमण दे सकते हैं।

 

5. सेनेटरी पैड को हर 4 से 6 घंटे में बदलें

 

इस मौसम में नमी के कारण आपकी वैजाइना में इंफेक्‍शन होने के चांस बढ़ जाते हैं। नमी की वजह से आपको खुजली या रेशेज (Rreshge) हो सकते हैं। यदि आप पीरियड्स (periods) पर हैं तो अपने पैड को हर 4 से 6 घंटों में बदलें।

 

 

इससे सम्बंधित कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें।। आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर भी संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें [email protected] पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


 

 



Source link

Leave a Comment