लिवर इन्फेक्शन का इलाज और जानिए इसके लिए बेस्ट हॉस्पिटल्स? – GoMedii


लिवर हमारे पेट के दायीं ओर स्थिति होता है जो भोजन को पचाने और शरीर को विषाक्त पदार्थों से बचाव करता है। किसी भी व्यक्ति को लिवर की बीमारी उसके अपने परिवार से भी मिल सकती है। यह एक आनुवंशिक बीमारी है। लीवर की समस्याएं कई तरह के कारणों से हो सकती हैं जो लीवर को नुकसान पहुंचाती हैं, जैसे वायरस, शराब का अधिक सेवन और आपका बढ़ता मोटापा। हमारी खराब आदतें लिवर को और भी नुकसान पहुंचा सकती है। इस वजह से लिवर फेलियर हो सकता है। ऐसे में आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। यदि आप लिवर डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहते हैं तो आप यहाँ क्लिक करें।

 

 

जानिए विभिन्न प्रकार के लिवर इन्फेक्शन के कारण क्या है? (What are the complications of liver disease in Hindi)

 

विभिन्न प्रकार के लिवर इन्फेक्शन के कारण कुछ इस प्रकार हैं:

 

  • वायरल इन्फेक्शन

 

  • आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली में समस्याएं (Problems with your immune system)

 

  • वंशानुगत रोग (Inherited diseases)

 

 

  • बहुत अधिक विषाक्त पदार्थों का सेवन

 

 

 

लिवर की बीमारी का इलाज आपके निदान पर निर्भर करता है। कुछ लिवर की समस्याओं का इलाज करने के लिए आपको सबसे अपनी जीवनशैली में सुधार करना पड़ेगा। जैसे शराब का अधिक सेवन ना करें या अपने वजन को कंट्रोल करें। अन्य लिवर की समस्याओं का इलाज दवाओं के साथ किया जा सकता है या सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

 

  • दवाएं: आपका डॉक्टर दवा के साथ कुछ प्रकार के लिवर की बीमारी का इलाज करते हैं। आप वायरल संक्रमण जैसे हेपेटाइटिस या विल्सन डिजीज जैसी परिवार से मिली सकती है।

 

  • जीवनशैली में बदलाव: आप अपने आहार का उपयोग कुछ प्रकार के लिवर डिजीज को प्रबंधित करने में मदद के लिए कर सकते हैं। यदि आपको फैटी लीवर की बीमारी है, तो शराब का सेवन नहीं करना चाहिए, वसा और कैलोरी को सीमित करने और फाइबर का सेवन बढ़ाने से लिवर को होने वाले नुकसान को कम किया जा सकता है।
  दिवाली से पहले कम करना है वजन तो डाइट में शामिल कर लें ये 5 चीज, हर ड्रेस हो जाएगी फिट

 

  • लीवर ट्रांसप्लांट: जब लीवर की बीमारी लीवर फेलियर में बदल जाती है, तो लीवर ट्रांसप्लांट ही एक आखिरी विकल्प बचता है। आपका डॉक्टर ट्रांसप्लांट की मदद से स्वस्थ लीवर को खराब लीवर से बदल देता है।

 

 

लिवर इन्फेक्शन के इलाज का खर्च कितना होगा? (What is the cost of liver infection treatment in Hindi)

 

अगर हम लिवर इन्फेक्शन के इलाज के खर्च की बात करें तो यह इस बात पर निर्भर करेगा की आपका डॉक्टर किस प्रकार के लिवर की बीमारी का इलाज कर रहे हैं। आपको बता दें कि कई प्रकार की लिवर की बीमारी होती हैं और सब का खर्च अलग अलग होता है।

 

 

लिवर इन्फेक्शन के इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल? (Best hospital for liver infection treatment in Hindi)

 

 

यदि आप इनमें से किसी भी अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311)  पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

लीवर इंफेक्शन के लक्षण (Symptoms of liver infection in Hindi)

 

लिवर इंफेक्शन का पहला लक्षण यह होता है कि शरीर पीला पड़ने लगता है। साथ ही आंखों का सफेद हिस्सा भी पीला हो जाता है।

 

  • पेशाब के रंग में बदलाव

अगर लीवर में इंफेक्शन की समस्या होती है तो इसके पेशाब का रंग बदल जाता है। संक्रमण के कारण पेशाब का रंग गहरा हो जाता है।

 

  • पेटदर्द होना

पेट दर्द की शिकायत अक्सर लीवर इंफेक्शन की वजह से होती है। जिस वजह से उनका कुछ भी खाने का मन नहीं करता है। साथ ही भूख भी लगना बंद हो जाती है।

  The One Type Of Yogurt You Should Never Be Eating For Weight Loss—It’s So High In Sugar!

 

बार बार पीलिया होना भी लिवर इन्फेक्शन का सबसे आम लक्षण हो सकता है।

 

  • हाथ-पांव में सूजन

कई बार लीवर में इंफेक्शन की वजह से हाथ पैरों में सूजन की समस्या हो जाती है।

 

  • शरीर में खुजली होना

जब लीवर में इन्फेक्शन हो जाता है तो शरीर में खुजली की समस्या हो जाती है। सबसे पहले हाथों या पैरों में खुजली होने लगती है। फिर यह शरीर के सभी हिस्सों में होने लगता है। जिससे त्वचा काफी रूखी हो जाती है।

 

  • पेट का आकार बढ़ना

अगर किसी को अचानक पेट फूलने की समस्या हो जाती है। तो यह लीवर में सूजन का लक्षण हो सकता है। बहुत से लोग पेट फूलने को मोटापे से भ्रमित करते हैं। जिससे लीवर में सूजन बढ़ जाती है।

 

  • उल्टी आना 

अक्सर उल्टी जैसा महसूस होना लीवर में संक्रमण के कारण भी हो सकता है।

 

 

लिवर इन्फेक्शन का निदान कैसे किया जाता है? (How is a liver infection diagnosed in Hindi)

 

लिवर की बीमारी के परीक्षण के लिए, एक डॉक्टर पहले एक सामान्य परीक्षा आयोजित करेगा, जिसमें वह पिछले रोग के इतिहास और लक्षणों के बारे में पूछता है। इसके अलावा, सटीक निदान के लिए अन्य परीक्षण भी किए जा सकते हैं, जिनमें शामिल हो सकते हैं:

 

  • ब्लड टेस्ट: लिवर फंक्शन टेस्ट, लिवर की बीमारी का निदान करने के लिए सबसे कारगर टेस्ट माना जाता है। अन्य रक्त परीक्षण एक विशिष्ट यकृत विकार या आनुवंशिक समस्या का निदान करने में मदद कर सकते हैं जो किसी व्यक्ति को हो सकती है।

 

  • इमेजिंग टेस्ट: अल्ट्रासाउंड, सीटी स्कैन और एमआरआई स्कैन इमेजिंग टेस्ट के अंतर्गत आते हैं जो लीवर की स्पष्ट तस्वीरें प्रदान करते है। इससे डॉक्टर को बीमारी का पता लगाने में आसानी होती है।
  By drinking this tea, you will stay away from thyroid, the risk of these diseases is also less.

 

  • लीवर बायोप्सी: डॉक्टर लीवर से ऊतक का एक नमूना लेता है और लीवर की बीमारी या लीवर की बीमारी के लक्षण का पता लगाता है इसके बाद वह इलाज के विकल्प बताता है।

 

 

लिवर की बीमारी की जटिलताएं क्या हैं? (What are the complications of liver disease in Hindi)

 

कुछ प्रकार की लिवर की बीमारी लिवर कैंसर के विकास का जन्म दे सकती है। यदि इसका इलाज समय पर नहीं किया जाता है, तो आपके लीवर काम करना बंद कर सकता है। ये लिवर सिरोसिस जैसी बीमारी को विकसित कर सकता है। समय के साथ, खराब लीवर में कार्य करने के लिए पर्याप्त स्वस्थ ऊतक नहीं होती हैं। लिवर की बीमारी जिसका इलाज नहीं किया जाता है वह लिवर फेलियर का कारण बन सकती है इसके बाद लिवर ट्रांसप्लांट ही एक आखिरी विकल्प बचता है।

 

 

यदि आप कम खर्च में लिवर इन्फेक्शन का इलाज की तलाश कर रहे हैं या इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो डॉक्टर से कंसल्ट करें या आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें [email protected] पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


 

 



Source link

Leave a Comment