गर्मी के मौसम में फलों का सेवन करने से हो सकता है कैंसर का खतरा-GoMedii


इस गर्मी के मौसम में फलों का सेवन सोच-समझ कर करें। बाजार से आम या कोई भी फल खरीदते वक़्त इस बात को ध्यान में जरूर रखे कि जो आप खरीद रहे हैं, कहीं ये कार्बाइड से तो नहीं पकाया गया है। गर्मी के मौसम में अधिकांश जगहों पर आम या कोई भी फल कार्बाइड से पके हुए मिलते हैं, जो की सेहत के लिए बहुत ही खतरनाक होता है। जिसका असर हमारे स्वास्थ पर बहुत बुरा प्रभाव डालता है, यहां तक की इससे पकाये गए फलों का सेवन करने से कैंसर होने तक का खतरा रहता है।

 

जो भी फल कार्बाइड से पके होते है, वे देखने में प्राकृतिक तौर पर पके हुए फलों की तरह ही नजर आते है, लेकिन ये स्वास्थ्य को बहुत ही गंभीर नुकसान पहुंचाते हैं। जितने भी फल कार्बाइड से पकाये जाते है उन फलों का सेवन करने से त्वचा कैंसर, गले का कैंसर, मुंह का अल्सर, डायरिया, सिरदर्द, चिड़चिड़ापन, उच्च रक्तचाप, स्मृति लोप जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए फलों को खरीदते वक़्त ध्यान रखे।

 

कच्चे फलो को पकाने के लिए उसमे कार्बाइड के छोटे-छोटे टुकड़े डाले जाते हैं। बागवानी विशेषज्ञों का कहना है कि फलों की नमी सोखकर कार्बाइड एसिटिलीन (Acetylene) नामक गैस बनाती है। बाद में यह गैस एसिटलडिहाइड (Acetaldehyde) नामक गैस के रूप में परिवर्तित हो जाती है, जो की स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होती है। कार्बाइड से फलों को 12 घंटे में पकाया जा सकता है।

 

 

कैल्शियम कार्बाइड के नुकसान

 

 

इसमें घातक और खतरनाक रसायन आर्सेनिक और फास्फोरस हाइड्राइड होते हैं। जो की सेहत के लिए बहुत ही खतरनाक साबित हो सकता है। इससे पकाये गए फलों का सेवन करने से बचे, नहीं तो बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

  How Covid-19 changed the way we live, work and shop in Singapore

 

  • पेट खराब की समस्या हो सकती है।

 

  • आंतों की कार्यशैली गड़बड़ा सकती है।

 

  • इसमें खतरनाक रसायन होने की वजह से खून और ऊतकों में कम ऑक्सीजन पहुंचती है, जो हमारे तंत्रिका तंत्र पर भी बहुत बुरा असर डालती है।

 

 

इन बातों को ध्यान रखें

 

 

इस गर्मी के मौसम में कार्बाइड से पकाये गए फलो का सेवन न करे और इन बातों को ध्यान रखें।

 

  • जो फल प्राकृतिक न हो यानी की उसे पकाया गया हो उन फलों को खरीदे नहीं और अगर गलती से खरीद भी लिया है, तो खाने से पहले फल को अच्छी तरीके से धोएं। और जहाँ तक हो सके पकाये गए फलो का सेवन करने से बचे।

 

  • आम और सेब जैसे फलों को काटकर खाएं।

 

  • फलो का सेवन करने से पहले इसे छील लें।

 

 

ऐसे करें पहचान

 

प्राकृतिक रूप से पका हुआ फल

 

  • प्राकृतिक रूप से पका हुआ फल आकर्षक होगा और पूरे फल का रंग एक समान नहीं होता है।

 

  • इसकी महक भी अच्छी होती है।

 

  • खाने में स्वादिस्ट और मीठा होता है।

 

  • ज्यादा दिन तक खराब नहीं होगा।

 

 

कार्बाइड से पकाये गए फल

 

 

  • पूरे फल का एक जैसा रंग होता है, लेकिन देखने में आकर्षक नहीं होता है।

 

  • खाने में स्वादिस्ट नहीं होता।

 

  • फल पका दिखेगा, फिर भी अंदर के हिस्से में खट्टापन रहता है।

 

  • कार्बाइड से पकाये गए फलों में दो या तीन दिन में ही काले धब्बे दिखने लगते है।
  Fitness queen Kayla Itsines and her boyfriend Jae Woodroffe spotted on date in Sydney's Double Bay

 

 

खतरनाक रसायन है कैल्शियम कार्बाइड 

 

 

इसे आमतौर पर ‘मसाला’ नाम से जाना जाता है। फलों को पकाने के लिए कैल्शियम कार्बाइड ही इस्तेमाल किया जाता है। कई देशों में तो इसके इस्तेमाल पर रोक लगी हुई है। यह रंगहीन होता है, लेकिन अन्य रूपों में यह काले, सफेद-भूरे रंग का भी होता है। इसकी महक लहसुन की तरह होती है। यह सेहत के लिए बहुत ही खतरनाक रसायन होता है। इसलिए ऐसे फलों का सेवन न करे जो कार्बाइड से पकाये गए हो।

 

 

कैल्शियम कार्बाइड से पकाये गए फलों का सेवन करने से परहेज करना चाहिए इससे बहुत सारी खतरनाक बीमारियों के होने का खतरा बना रहता है। इसलिए इस गर्मी के मौसम में फलों का सेवन सोच-समझ कर करे। और कोई भी समस्या होने पर डॉक्टर से तुरंत ही सलाह ले।

 

 

इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें या आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें [email protected] पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी। हम आपका सबसे अच्छे हॉस्पिटल में इलाज कराएंगे।

 

 

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।

  Rootines, a Patient Engagement Platform That Marries Remote Patient Monitoring (RPM) with Patient Reported Outcomes (PRO) for Pediatric Behavioral Health Introduces Products to Market

 

 



Source link

Leave a Comment