डायबिटीज के मरीज को हर रोज इतने स्टेप्स चलना चाहिए नहीं तो घुटना हो जाएगा खराब



<p style="text-align: justify;">टाइप-2 डायबिटीज के मरीज को हर रोज एक्सरसाइज के साथ-साथ टहलना काफी ज्यादा फायदेमंद होता है. हेल्थ एक्सपर्ट टाइप-2 डायबिटीज के मरीज को अक्सर सलाह देते हैं कि उन्हें पैदल जरूर चलना चाहिए इससे उनका स्वास्थ्य अच्छा रहता है. टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों के लिए फिजकिल एक्टिवी बेहद जरूरी है. इससे उन्हें डायबिटीज बढ़ने का खतरा कम होता है. टहलने और एक्सरसाइज के साथ-साथ आप एरोबिक्स और दूसरी तरह की एक्सरसाइज कर सकते हैं. डायबिटीज के मरीजों को ब्लड में शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए अपनी लाइफस्टाइल और खानपान का खास ख्याल रखना होगा. क्योंकि एक्सरसाइज से ही मांसपेशियों में इंसुलिन हार्मोन की गति बढ़ती है साथ ही ब्लड में शुगर लेवल को कंट्रोल किया जा सकता है.&nbsp;</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>डायबिटीज के मरीज को हर रोज कितने स्टेप्स चलना चाहिए?</strong></p>
<p style="text-align: justify;">हेल्थ एक्सपर्ट के साथ-साथ कई फिटनेस ऐप्स और डिवाइस के मुताबिक हर व्यक्ति को हर रोज 10,000 स्टेप्स चलना का टारगेट रखा है. हालांकि कुछ हेल्थ एक्सपर्ट कहते हैं यह नियम हम सब पर लागू नहीं कर सकते हैं. अलग-अलग उम्र के लोगों के स्टेप्स अलग-अलग हो सकते हैं. हर रोज 10,000 कदम चलने को लंबे समय से वयस्कों के लिए एक स्वस्थ और प्राप्त करने योग्य लक्ष्य के रूप में प्रचारित किया गया है. यह संख्या सभी के लिए एक बराबर नहीं हो सकती है. विशेषकर विभिन्न आयु समूहों के लिए. हालांकि, जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, हमारा शरीर बदलता है और इस लक्ष्य को पूरा करने की हमारी क्षमता अधिक चुनौतीपूर्ण हो सकती है. ऐसा कोई सख्त नियम नहीं है कि आपको ठीक 10,000 कदम पूरे करने होंगे. यह चलने के लाभों को प्राप्त करने के लिए पर्याप्त मात्रा में कदमों को दर्शाता है.</p>
<p style="text-align: justify;">आदर्श कदमों की संख्या व्यक्ति की उम्र, लिंग और शारीरिक फिटनेस स्तर के आधार पर अलग-अलग होगी. अपने शरीर की बात सुनना महत्वपूर्ण है. ध्यान तनाव से निपटने और मांसपेशियों की टोन बनाए रखने में मदद करता है. व्यक्ति एरोबिक व्यायाम भी कर सकता है जिसमें दौड़ना, तेज चलना, तैराकी, साइकिल चलाना और जॉगिंग, वजन उठाने सहित वजन प्रतिरोधी व्यायाम आदि शामिल हैं.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>एक्सरसाइज करने से सेहत को मिलते हैं गजब के फायदे</strong></p>
<p style="text-align: justify;"><strong>ब्लड में शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए चलना है जरूरी</strong></p>
<p style="text-align: justify;">जब आप चलते हैं तो आपका शरीर ग्लूकोज (चीनी) के रूप में एनर्जी का उपयोग करता है. टाइप 2 मधुमेह के साथ, शरीर का रक्त शर्करा बहुत अधिक हो जाता है. लेकिन व्यायाम आपको उस शर्करा का उपयोग करने में मदद करता है और इसलिए इसे कम करने में मदद करता है. नियमित रूप से टहलना आपके A1C को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>वज़न कंट्रोल करने के लिए है फायदेमंद</strong></p>
<p style="text-align: justify;">वजन कम करने के लिए आपको उपभोग की तुलना में अधिक कैलोरी जलाने की आवश्यकता होती है, और ऐसा करने के लिए स्वस्थ आहार उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि व्यायाम. वजन घटाने को बनाए रखने में मदद के लिए पैदल चलना एक बेहतरीन तरीका है. दिल की बीमारी&nbsp;में सुधार. मधुमेह से पीड़ित लोगों में हृदय रोग विकसित होने की संभावना उन लोगों की तुलना में दो से चार गुना अधिक होती है जिन्हें मधुमेह नहीं है. व्यायाम रक्तचाप को कम करने और खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी मदद कर सकता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>मूड में सुधार और तनाव से राहत</strong></p>
<p style="text-align: justify;">एक्सरसाइज करने या टहलने से फील-गुड हार्मोन रिलीज होता है जो आपके मूड को अच्छा कर सकता है और तनाव से राहत दिला सकता है. मधुमेह वाले लोगों में अवसादग्रस्त होने का खतरा अधिक होता है और व्यायाम आपके भावनात्मक स्वास्थ्य की देखभाल के लिए एक उपकरण हो सकता है. सहनशक्ति बढ़ाता है. व्यायाम आपके फिटनेस स्तर और सहनशक्ति को बढ़ाता है. हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत बनाता है. नियमित रूप से व्यायाम करने से आपकी मांसपेशियों और हड्डियों की ताकत में सुधार होता है, जो चोटों को रोकने में भी मदद करता है और एथलेटिक प्रदर्शन को बढ़ाता है.</p>
<div dir="auto" style="text-align: justify;"><strong><em>Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें.</em></strong></div>
<div dir="auto" style="text-align: justify;">&nbsp;</div>
<div dir="auto" style="text-align: justify;"><strong>ये भी पढ़ें: </strong><strong><a title="Bhai Dooj 2023: इन तरीकों से होगा भाई बहन के बीच रिश्ते में प्यार बेशुमार, हमेशा रहेंगे साथ साथ" href="https://www.abplive.com/lifestyle/bhai-dooj-2023-these-tips-will-help-to-strong-bonding-and-love-between-brother-and-sister-2537149/amp" target="_self">Bhai Dooj 2023: इन तरीकों से होगा भाई बहन के बीच रिश्ते में प्यार बेशुमार, हमेशा रहेंगे साथ साथ</a></strong></div>



Source link

  इस हार्मोन की वजह से दिल टूटने के बाद होता है दर्द, जानें इसे कैसे कर सकते हैं कंट्रोल

Leave a Comment