भारत में फेफड़ों के कैंसर के इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल – Best Hindi Health Tips (हेल्थ टिप्स), Healthcare Blog – News


फेफड़ों के कैंसर के बहुत से मामलों में इसके शुरुआती लक्षणों का पता नहीं चल पता है यही वजह है कि लोगों को इसका इलाज सही समय पर नहीं मिलता है। इस बीमारी के इलाज का एक ही विकल्प है और वो है सर्जरी। दरअसल फेफड़ों के कैंसर को लेकर बहुत से लोगों के मन में कई तरह की शंकाएं हैं, जो कि बिल्कुल गलत है क्योंकि ये संदेह ही लोगों को भ्रमित करने का काम करते हैं। तो आइए इस लेख के माध्यम से फेफड़ों के कैंसर के बारे में आवश्यक जानकारी प्राप्त करते हैं।

 

फेफड़े का कैंसर एक प्रकार के कैंसर को संदर्भित करता है जो फेफड़ों में शुरू होता है। फेफड़े मानव शरीर की छाती में दो स्पंजी अंग होते हैं, जो साँस लेने के दौरान शरीर में ऑक्सीजन ले जाते हैं और साँस छोड़ने के दौरान कार्बन डाइऑक्साइड छोड़ते हैं। आमतौर पर यह माना जाता है कि जो लोग धूम्रपान करते हैं उन्हें फेफड़ों का कैंसर होने का खतरा होता है, लेकिन यह कैंसर अन्य नशीले पदार्थों जैसे गुटखा, तंबाकू आदि के सेवन से भी हो सकता है। अगर आप इसे खाना छोड़ भी देते हैं तो आने वाले समय भी कैंसर होने की संभावना बनी रहती है। यदि इससे जुड़े आपके कोई सवाल हैं यहाँ क्लिक करें

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

यदि आप इनमें से किसी भी अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

भारत में फेफड़ों के कैंसर के इलाज में कितना खर्च आता है? (What is the lung cancer treatment cost in India in Hindi)

 

  Black cardamom is very helpful in cleaning kidney dirt, consume it in this way

भारत में फेफड़ों के कैंसर के इलाज की औसत लागत लगभग 4,00,000 रुपय  से  7,00,000 रुपय तक है। हालांकि, अलग-अलग शहरों के अस्पतालों के आधार पर कीमतें अलग-अलग हो सकती हैं।

 

 

फेफड़ों के कैंसर का क्या कारण है? (What causes lung cancer in Hindi)

 

फेफड़ों का कैंसर मुख्य रूप से निम्नलिखित कारणों से होता है, जो इस प्रकार हैं:

 

  • तंबाकू का सेवन: अगर आप तंबाकू का सेवन करते हैं तो आपको फेफड़ों का कैंसर हो सकता है।

 

  • फेफड़ों की बीमारी: अगर आपको अस्थमा जैसी फेफड़ों की कोई बीमारी है तो आपको फेफड़ों का कैंसर हो सकता है।

 

  • धूम्रपान: धूम्रपान करने वालों को फेफड़ों का कैंसर होने की संभावना अधिक होती है।

 

  • एस्बेस्टस फाइबर के संपर्क में आना: यदि कोई व्यक्ति एस्बेस्टस फाइबर के संपर्क में आता है, तो उसे फेफड़ों का कैंसर हो सकता है क्योंकि इसमें कैंसर पैदा करने वाले ऊतक होते हैं।

 

  • रेडॉन के संपर्क में आना: रेडॉन एक प्राकृतिक रूप से पाई जाने वाली रेडियोधर्मी गैस है जो सभी चट्टानों और मिट्टी में मौजूद यूरेनियम की थोड़ी मात्रा से आती है। यह कभी-कभी इमारतों में भी पाया जा सकता है।

 

  • वायु प्रदूषण: वायु प्रदूषण इस कैंसर का मुख्य कारण है क्योंकि यह प्रदूषित हवा को शरीर में भेजता है, जो फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है।

 

 

फेफड़ों के कैंसर के कितने प्रकार होते हैं ? (How many types of lung cancer are there in Hindi)

 

माइक्रोस्कोप के तहत फेफड़ों के कैंसर कोशिकाओं की उपस्थिति के आधार पर डॉक्टर फेफड़ों के कैंसर को दो प्रमुख प्रकारों में विभाजित करते हैं। आपका डॉक्टर आपके प्रमुख प्रकार के फेफड़ों के कैंसर के आधार पर उपचार तय करता है।

  Laugh Away Calories - Funny Weight Loss Tips & Quotes

 

स्मॉल सेल लंग कैंसर: यह एक प्रकार का कैंसर है जो कोशिकाओं से बना होता है और यह एक ऐसा कैंसर है जो उन लोगों में होता है जो अधिक धूम्रपान करते हैं और इसके शरीर के अन्य भागों में फैलने की संभावना अधिक होती है, इसे छोटी कोशिका कहा जाता है फेफड़े का कैंसर। इसे (स्मॉल सेल लंग कैंसर) कहते हैं।

 

नॉन-स्मॉल सेल लंग कैंसर : नॉन-स्मॉल सेल लंग कैंसर कैंसर का एक सामान्य रूप है, जो फेफड़ों के कैंसर वाले लगभग 85 प्रतिशत लोगों में होता है।

 

 

फेफड़ों के कैंसर का निदान करने के लिए परीक्षण (tests to diagnose lung cancer in Hindi)

 

यदि यह सोचने का कोई कारण है कि आपको फेफड़ों का कैंसर हो सकता है, तो आपका डॉक्टर कैंसर कोशिकाओं को देखने और अन्य स्थितियों से इंकार करने के लिए कई परीक्षणों का आदेश दे सकता है।

 

टेस्ट में शामिल हो सकते हैं:

 

  • इमेजिंगटेस्ट

 

  • थूक कोशिका विज्ञान

 

  • ऊतक का नमूना (बायोप्सी)

 

 

फेफड़ों के कैंसर का इलाज कैसे किया जा सकता है? (How can lung cancer be treated in Hindi)

 

 

ज्यादातर लोग फेफड़ों के कैंसर को लाइलाज बीमारी मानते हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि किसी भी अन्य बीमारी की तरह यह कैंसर भी इलाज योग्य है, जो निम्न तरीकों से किया जा सकता है:

 

होम्योपैथिक उपचार: इस कैंसर का इलाज होम्योपैथिक तरीके से भी किया जा सकता है क्योंकि होम्योपैथिक शरीर से कैंसर के ऊतकों को खत्म कर देता है।

 

रेडियोथेरेपी: इसके कैंसर में रेडियोथेरेपी भी कारगर साबित हो सकती है। रेडियोएक्शन भी कहा जाता है। इसमें कैंसर के ऊतकों को नष्ट करने के लिए उच्च स्तर के विकिरण का उपयोग किया जाता है।

  Cholesterol has increased in pregnancy, so protect it like this, know its causes and initial symptoms

 

कीमोथेरेपी: कैंसर की सर्जरी से बचने के लिए डॉक्टर कीमोथेरेपी करते हैं, जिसका इस्तेमाल यह पता लगाने के लिए किया जाता है कि कैंसर शरीर में किस हद तक फैल गया है।

 

टारगेटेड थेरेपी: यह थेरेपी भी इस कैंसर को खत्म करने का कारगर तरीका साबित हो सकती है। इसमें कैंसर को खत्म करने की दवाएं दी जाती हैं।

 

सर्जरी: जब कैंसर को खत्म करने के अन्य तरीके फायदेमंद साबित नहीं होते हैं, तो डॉक्टर कैंसर सर्जरी की सलाह देते हैं जिसमें कैंसर के ऊतकों को काट दिया जाता है ताकि यह शरीर के अन्य हिस्सों में न फैले।

 

यदि आप फेफड़ों के कैंसर का इलाज कराना चाहते हैं या इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें या आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें [email protected] पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी। हम आपका सबसे अच्छे हॉस्पिटल में इलाज कराएंगे।

Doctor Consutation Free of src=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


 

 



Source link

Leave a Comment