हाई बीपी बन सकता है ब्रेन हेमरेज का कारण? जानें क्या कहते हैं डॉक्टर


बढ़ती उम्र के साथ दिमाग से जुड़ी बीमारियां जैसे डिमेंशिया, अल्जाइमर या स्ट्रोक जैसी समस्याएं घेर लेती है. खराब लाइफस्टाइल और खानपान के कारण कई लोगों को हाई बीपी की समस्या होती है. जिसका असर सीधा दिमाग पर पड़ता है.

हाई बीपी के कारण कई बार ब्रेन हेमरोज हो जाती है. जिससे व्यक्ति के जान जाने का भी खतरा रहता है. ब्रेन हेमरेज को आप एक तरह का स्ट्रोक के रूप में ही देख सकते हैं. ब्रेन हेमरेज में भी ब्रेन के अंदर ब्लीडिंग होने लगती है.

हाई बीपी के कारण कई बार ब्रेन हेमरोज हो जाती है. जिससे व्यक्ति के जान जाने का भी खतरा रहता है. ब्रेन हेमरेज को आप एक तरह का स्ट्रोक के रूप में ही देख सकते हैं. ब्रेन हेमरेज में भी ब्रेन के अंदर ब्लीडिंग होने लगती है.

हाई बीपी के कारण हाइपरटेंशन का भी खतरा रहता है. जो ब्लड वेसल्स को धीरे-धीरे कमजोर करने लगता है. अगर किसी का बीपी लगातार हाई रहता है ब्लड वेसल्स पर दबाव बढ़ने लगता है.

हाई बीपी के कारण हाइपरटेंशन का भी खतरा रहता है. जो ब्लड वेसल्स को धीरे-धीरे कमजोर करने लगता है. अगर किसी का बीपी लगातार हाई रहता है ब्लड वेसल्स पर दबाव बढ़ने लगता है.

95 प्रतिशत ब्रेन हेमरेज के मामले हाई बीपी के कारण होता है. इसलिए हमेशा बीपी चेक करवाते रहना चाहिए. ताकि हद से ज्यादा हाई बीपी शरीर के लिए खतरनाक साबित हो सकती है.

95 प्रतिशत ब्रेन हेमरेज के मामले हाई बीपी के कारण होता है. इसलिए हमेशा बीपी चेक करवाते रहना चाहिए. ताकि हद से ज्यादा हाई बीपी शरीर के लिए खतरनाक साबित हो सकती है.

जिन लोगों की उम्र 40 साल से ज्यादा होती है वह अपने बीपी का खास ख्याल रखें वरना बीपी के साथ-साथ कोलेस्ट्रॉल और शुगर का लेवल बढ़ जाए तो फिर जोखिम भरा साबित हो सकता है.

जिन लोगों की उम्र 40 साल से ज्यादा होती है वह अपने बीपी का खास ख्याल रखें वरना बीपी के साथ-साथ कोलेस्ट्रॉल और शुगर का लेवल बढ़ जाए तो फिर जोखिम भरा साबित हो सकता है.

Published at : 02 Apr 2024 06:57 PM (IST)

हेल्थ फोटो गैलरी

हेल्थ वेब स्टोरीज



Source link

  The Risks of Surrogate Motherhood and How to Deal With Them

Leave a Comment